नई दिल्ली। जून की तपती गरमी में सभी को इंतजार है बारिश का. लेकिन मॉनसून आने के बावजूद इंतजार लंबा ही होता जा रहा है. उत्तर प्रदेश के वाराणसी में बारिश के लिए लोगों ने अजीबोगरीब प्रथा का आयोजन करते हुए यहां मेंढक की शादी करवा दी. मान्यता है कि मेंढक-मेंढकी की शादी से बारिश होती है. इसी आस में लोगों ने मेंढक की शादी करवाई. इसमें अच्छे खासे लोग भी जुटे. Also Read - मुंबई से चलकर वाराणसी पहुंची ट्रेन में 2 यात्री पाए गए मृतक, श्रमिक ट्रेन का है पूरा मामला

प्लेट में रखकर माला पहनाई Also Read - BHU के पूर्व प्रोफेसर की Coronavirus से हुई मौत, वाराणसी में अबतक 4 ने गंवाई जान

खास बात ये है कि वर और वधू (मेंढक) दोनों प्लास्टिक के थे. इन्हें एक प्लेट में रखा गया, माला पहनाई गई और पंडित ने मंत्रोच्चार किया और इंद्र देव को प्रसन्न करने के लिए हवन किया. वर-वधू के पोस्टर कमरे में उनकी शादी की जानकारी के साथ लगे हुए थे और इस दौरान काफी संख्या में लोग मौजूद थे. शादी की रस्म से पहले ढोल पर लोगों ने डांस भी किया. Also Read - कोरोना संकट के बीच मानसून को लेकर आई ये खबर, जानिए कब आपके यहां पहुंचेगा

इंद्र देव से बारिश की गुहार

आयोजकों ने कहा कि बारिश के देवता इंदर देव को खुश करने के लिए इनकी शादी कराई गई. हम चाहते हैं कि शहर में बारिश हो. हमें जबरदस्त गर्मी झेलनी पड़ रही है. सब जगह बारिश हो रही है लेकिन बनारस में नहीं. इसलिए हमने ये शादी कराई और इंद्र देव से प्रार्थना कि कि वह हमारे शहर में मॉनसून भेजें.

खास बात ये है कि इस दौरान दो लोगों को भी वर और वधू बनाया गया था. शादी के बाद चारों के एक साथ फोटो खींचे गए.

छतरपुर में भी मेढकों की शादी

वहीं, बारिश की आस में मध्य प्रदेश के छतर पुर में भी कुछ ऐसा ही नजारा दिखा. यहां लोगों ने बारिश के देवता इंद्र देव को खुश करने के लिए दो मेंढकों की शादी कराई. इस दौरान एमपी की मंत्री ललिता यादव भी मौजूद थीं. उन्होंने कहा कि हमने प्रार्थना की है कि बुंदेलखंड में बारिश हो और हमारे किसानों को राहत मिले.