हैदराबाद: केंद्रीय गृह राज्‍य मंत्री जी. किशन रेड्डी ने मंगलवार को आरोप लगाया कि संशोधित नागरिकता कानून को लेकर दिल्ली में जानबूझकर हिंसा फैलाई गई और नरेंद्र मोदी सरकार इस तरह की घटनाओं को बर्दाश्त नहीं करेगी. उन्होंने अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की देश की यात्रा के दौरान हिंसा को लेकर चिंता जताई. केंद्रीय गृह राज्यमंत्री ने कहा कि सीएए विरोधी प्रदर्शनों के नाम पर आगजनी और दंगा पूरी तरह गलत है. किसी को भी यह नहीं समझना चाहिए कि केंद्र सरकार कमजोर है. Also Read - कोरोनावायरसः पुलिस ने खाली कराया शाहीन बाग, सौ दिन से चल रहा था CAA के खिलाफ प्रोटेस्ट

रेड्डी ने यहां संवाददाताओं से कहा, ”जो लोग हिंसा में शामिल थे उन्हें मैं चेतावनी देता हूं कि नरेंद्र मोदी सरकार इसे कतई बर्दाश्त नहीं करेगी. आगजनी और हिंसा में शामिल लोगों के खिलाफ हमारी सरकार आवश्यक कड़ी कार्रवाई करेगी. हमारी सरकार हिंसा के किसी भी रूप को बर्दाश्त नहीं करेगी.” Also Read - दिल्‍ली के शाहीन बाग धरनास्थल पर फेंका गया पेट्रोल बम

केंद्रीय गृह राज्य मंत्री ने दावा किया कि राष्ट्रीय राजधानी में कानून-व्यवस्था की स्थिति दिल्ली पुलिस के कारण नियंत्रण में है जो जिम्मेदारी से काम कर रही है. उन्होंने आरोप लगाया कि दिल्ली में हिंसा जानबूझकर की गई. Also Read - जनता कर्फ्यू में शामिल नहीं होंगी शाहीन बाग की दादियां, कहा- यहां मरना पसंद करूंगी

रेड्डी ने कहा, केंद्र ने संयम बरता. ”हम जानते हैं कि लोग समझेंगे कि सीएए में कुछ भी नहीं है, जो 130 करोड़ भारतीयों के खिलाफ हो. यह न तो पाकिस्तान के खिलाफ है, न ही बांग्लादेश के खिलाफ या किसी धर्म या क्षेत्र के खिलाफ भी नहीं है.”

रेड्डी ने कहा, इसके बावजूद वे मोदी सरकार को बदनाम करने का प्रयास कर रहे हैं और देश को बदनाम कर रहे हैं, जो बहुत गलत है.” उन्होंने कहा कि किसी को भी यह नहीं समझना चाहिए कि केंद्र सरकार कमजोर है.

मंत्री ने कहा, ”जो लोग देश की प्रतिष्ठा को नुकसान पहुंचाने का प्रयास कर रहे हैं वे हिंसा के लिए जिम्मेदार हैं. जांच जारी है और इससे पता चलेगा कि इसके पीछे कौन लोग हैं.”