West Bengal Assembly Elections 2021: पश्चिम बंगाल में अगले साल विधानसभा चुनाव होनेवाले हैं. इसे लेकर सियासी हलचल तेज है. ममता बनर्जी की तृणमूल कांग्रेस में बगावत के सुर तेज होते जा रहे हैं. वहीं, केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह (Amit Shah) इस हफ्ते के अंत में एक बार फिर बंगाल का दौरा करेंगे. बता दें कि 40 दिन के भीतर उनका यह दूसरा चुनावी दौरा होगा. इससे पहले उन्होंने कोलकाता में बंगाल विधानसभा की 294 में से 200 सीटें जीतने के लक्ष्य के साथ ही बीजेपी के चुनावी अभियान को हरी झंडी दिखाई थी. Also Read - बीजेपी में जाने पर भी खटपट! ज्योतिरादित्य सिंधिया की इस बड़े BJP नेता से बढ़ रही हैं दूरियां, सियासी घमासान के आसार

अमित शाह के इस दौरे को लेकर बताया जा रहा है कि शाह के इस दौरे के दौरान तृणमूल कांग्रेस (TMC) के बागी नेता सुवेंदु अधिकारी (Suvendu Adhikari) बीजेपी में शामिल होंगे. उनके भाजपा में शामिल होने से संबंधित कार्यक्रम को लेकर तैयारियां जोर-शोर से चल रही हैं. Also Read - पाकिस्तान में 'सर्जिकल स्ट्राइक' से जनता में विश्वास आया कि मोदी सरकार के नेतृत्व में देश सुरक्षित: शाह

मिली जानकारी के अनुसार, 19 दिसंबर को अमित शाह का सबसे पहला पड़ाव पश्चिम मिदनापुर का मेदिनीपुर होगा, जो कोलकाता से करीब 150 किलोमीटर की दूरी पर है. यहीं पर अमित शाह की मौजूदगी में सुवेंदु अधिकारी बीजेपी का दामन थामेंगे. इससे पहले शाह की पार्टी कार्यकर्ताओं और किसानों के साथ बैठक के लिए जगह के रूप में एक इनडोर स्टेडियम का चयन किया गया था. लेकिन अब यह एक खुले मैदान में होगा, जहां सुवेंदु बीजेपी में शामिल होंगे. Also Read - अमित शाह बोले- कृषि कानून से दोगुनी होगी आय, राकेश टिकैत ने कहा- हम आंदोलन खत्म नहीं करेंगे, किसी भी जांच से नहीं डरते

सुवेंदु अधिकारी नंदीग्राम से TMC विधायक हैं. वह ममता बैनर्जी की सरकार में परिवहन मंत्री थे. 27 नवंबर को उन्होंने पार्टी से इस्तीफा दे दिया था. उसके बाद से ही कयास लगाए जा रहे थे कि वे बीजेपी में शामिल हो सकते हैं.

सुवेंदु ने मंगलवार को कहा कि, ‘हमें बंगाल में वापस जाना होगा, जो संविधान में कहा गया है- लोगों के लिए, लोगों के लिए लोगों द्वारा. ये पार्टी के लिए, पार्टी के द्वारा और यहां पार्टी के लिए क्यों होगा? मैं व्यक्तिगत हमला करने में विश्वास नहीं रखता.

उन्होंने कहा कि बहुत से लोग मुझे गाली दे रहे हैं. कुछ बड़े पदों पर बैठे लोग भी मुझपर हमला बोल रहे हैं लेकिन कुछ दिनों में आप जान जाएंगे जब आप वोट डालेंगे. उन्होंने कहा कि लक्ष्मण सेठ, अनिल बोस, बोलेनॉय कोनार होकर कैसा लगता है.’ उन्होंने जिन तीन CPI (M) नेताओं का जिक्र किया, उन्होंने अतीत में रिकॉर्ड मार्जिन से जीत दर्ज की थी और वे तीनों रिकॉर्ड मार्जिन से हारे भी थे.