Coronavirus Outbreak in West Bengal: दुनियाभर में कहर मचा रहे कोरोना से बचने के लिए सभी देश अपनी-अपनी तरह से कोशिश में लगे हैं. महामारी के चलते 90 से ज्यादा देशों में लॉकडाउन हैं. भारत में भी कोरोना से बचाव के लिए 21 दिनों का लॉकडाउन घोषित है, जो 14 अप्रैल को खत्म होने वाला है. इस बीच पश्चिम बंगाल (West Bengal) की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी (CM Mamata Banerjee) ने इससे बचाव के लिए एक सलाहकार समिती का गठन किया है. उन्होंने अपनी प्रेस कॉन्फ्रेंस में बताया कि राज्य में लगातार कोरोना वायरस के मामले बढ़ रहे हैं और सोमवार तक कोरोना वायरस (Coronavirus) के 77 मामले सामने आए हैं. Also Read - दिल्ली के सभी बॉर्डर सील, एंट्री के लिए आपके पास होना चाहिए यह पास

ममता बनर्जी ने आगे बताया कि इनमें से 55 मामले ऐसे हैं, जिसमें 7 परिवारों के लोग कोरोना वायरस से संक्रमित पाए गए हैं. जिनमें 99 प्रतिशत मामलों में संक्रमित विदेशों से आए हैं. बंगाल में अभी तक 3 लोगों की मौत हो चुकी है. ऐसे में इस वायरस से बचाव के लिए ममता बनर्जी ने नीति निर्माण संस्था ‘वैश्विक सलाहकार बोर्ड’ के गठन की भी घोषणा की है. यह संस्था बंगाल में इस महामारी के खात्मे के लिए नीति तैयार करने में राज्य सरकार की मदद करेगी. Also Read - वर्क फ्रॉम होम: 'बॉस' रात में करते हैं VIDEO CALL, कम कपड़ों में करते हैं मीटिंग, परेशान हैं महिलाएं

ममता बनर्जी की बनाई इस सलाहकार समिती में नोबेल पुरस्कार विजेता अभिजीत बनर्जी (Abhijit Banerjee) बोर्ड के सदस्य होंगे. बता दें देश में अभी तक 4 हजार से ज्यादा कोरोना वायरस से पॉजिटिव मरीज सामने आ चुके हैं, जिनमें से 111 लोगों की मौत हो चुकी है. वहीं बात की जाए पश्चिम बंगाल की तो यहां अभी तक 77 कोरोना पॉजिटिव मरीज सामने आ चुके हैं, जिनमें से 13 लोग पूरी तरह से ठीक हो गए हैं तो वहीं 3 की मौत हो चुकी है. Also Read - सऊदी अरब ने फिर से खोलीं 90 हजार मस्जिदें, मक्का अब भी बंद

हाल ही में देश में लॉकडाउन की घोषणा के बाद मजदूरों और कामगारों के पलायन को लेकर भी अभिजीत बनर्जी ने अपनी राय दी थी और यह बताया था कि सरकार को लॉकडाउन के बाद किन किन चीजों पर विशेष ध्यान रखने की जरूरत है. अभिजीत अक्सर विभिन्न मुद्दों पर अपनी राय देते रहते हैं.