मालदा (पश्चिम बंगाल): नौकरी भाई, परिवार, बच्चों से भी बढ़कर हो गई है. पिता की मौत के बाद अनुकंपा के आधार पर सरकारी नौकरी छोटे भाई को मिल गई, यही छोटे और उसके परिवार की मौत की वजह बन गई. सरकारी नौकरी के लिए बौखलाए भाई ने घर में आग लगा दी, इससे जिस छोटे भाई को नौकरी मिली उसके साथ ही उसके दो बच्चों व एक अन्य भाई की भी मौत हो गई. घटना से इलाके में सनसनी है.

मामला पश्चिम बंगाल के मालदा जिले के मानिकचक थाने के मदनटोला गांव की है. बताया जा रहा है कि कुछ दिन पहले यहां के रहने वाले गेदू मंडल की मौत हो गई. गेदू मंडल नेशनल वालंटियर फोर्स (एनवीएफ) में थे. मौत के बाद उनकी सरकारी नौकरी 28 साल के गोविंदा को मिल गई. ये नौकरी 30 वर्षीय भाई माखन चाहता था. नौकरी के लिए बौखलाए माखन ने रात में घर के दो कमरों में आग लगा दी. इससे नौकरी पाने वाले गोविंदा, उसकी एक बेटी-बेटा व एक अन्य 32 वर्षीय भाई विकास की भी मौत ही गई. विकास की पत्नी, बेटे और बेटी भी ज़िंदगी और मौत से अस्पताल में जूझ रहे हैं. उन्हें मालदा मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है.

4 साल की मासूम की जिंदगी तबाह करने वाले टीचर को इस दिन होगी फांसी

पुलिस ने बताया कि आरोपी माखन मंडल ने रविवार की रात को दो कमरों में उस वक्त पेट्रोल छिड़ककर आग लगा दी जब परिवार के सदस्य सो रहे थे. उन्होंने कहा कि भाईयों की मां दूसरे कमरे में सो रही थी इसलिए वह बाल-बाल बच गई. पुलिस ने कहा कि माखन की पत्नी अपने माता-पिता के साथ रहती है. घटना के बाद से माखन फरार है. उसकी तलाश की जा रही है. पुलिस और परिवार के अनुसार एक अन्य भाई लक्ष्मण दिल्ली में रहता है. भाई के द्वारा ही परिवार को तहस-नहस करने की इस घटना से लोग भी स्तब्ध हैं.