कोलकाता: तृणमूल कांग्रेस ने असम में राष्ट्रीय नागरिक पंजी (एनआरसी) के खिलाफ शनिवार को पश्चिम बंगाल में विभिन्न जगहों पर प्रदर्शन किए, रैलियां निकालीं और नुककड़ सभाएं की. Also Read - पश्चिम बंगाल में अब 'छोटी रैली' करेंगे पीएम मोदी सहित BJP के सभी बड़े नेता, सभा में आ सकेंगे केवल 500 लोग

तृणमूल कांग्रेस नेतृत्व ने घोषणा की थी कि एनआरसी और भाजपा की बंटवारे की राजनीति के खिलाफ उनकी पार्टी सात सितंबर को जनप्रदर्शन का आयोजन करेगी. तृणमूल के महासचिव सुब्रत बक्शी ने कहा कि आज कोलकाता में 40 से ज्यादा प्रदर्शन रैलियां निकाली गयीं और नुक्कड़ सभाओं का आयोजन हुआ. बंगाल के विभिन्न हिस्सों में हमें अच्छा उत्साह देखने को मिला. Also Read - पश्चिम बंगाल में नहीं लगेगा नाइट कर्फ्यू! मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने सभी स्कूलों में गर्मियों की छुट्टी का ऐलान किया

उन्होंने कहा कि ऐसी रैलियों और सभाओं का आयोजन रविवार को भी किया जाएगा. तृणमूल समर्थकों ने नरेन्द्र मोदी सरकार के खिलाफ नारेबाजी करते हुए असम-एनआरसी तुरंत वापस लेने की मांग की. तृणमूल के इस कदम पर प्रतिक्रिया देते हुए पश्चिम बंगाल भाजपा के अध्यक्ष दिलीप घोष ने कहा कि अगर 2021 विधानसभा चुनाव के बाद भाजपा सत्ता में आती है तो वह बंगाल में भी एनआरसी लेकर आएगी. Also Read - चुनावी रैलियों के बीच बंगाल में कोरोना के रिकॉर्ड 8, 419 नए मामले, 24 घंटे में 28 लोगों की मौत