कोलकाता: माकपा के वरिष्ठ नेता एवं पश्चिम बंगाल के पूर्व वाणिज्य और उद्योग मंत्री निरूपम सेन का लंबी बीमारी के बाद सोमवार की सुबह शहर के एक अस्पताल में निधन हो गया. वह 72 साल के थे. यह जानकारी उनके पारिवारिक सूत्रों ने दी. उनके परिवार में उनकी पत्नी, एक बेटा और एक बेटी है. पार्टी के वरिष्ठ नेताओं व वर्कर्स ने उनके निधन पर शोक जताते हुए उन्हें भाव-भीनी श्रद्धांजलि दी. श्री सेन का बुधवार को अंतिम संस्कार उनके गृह जनपद वर्धमान में किया जाएगा. पार्टी के वरिष्ठ नेता डॉ. सुजान चक्रबर्ती ने पोलित ब्यूरो के पूर्व सदस्य व पूर्व मंत्री निरुपम सेन को श्रद्धांजलि देते हुए ट्वीट किया ‘लाल सलाम कामरेड…

अस्पताल के सूत्रों ने बताया कि आज सुबह पांच बजकर दस मिनट पर दिल का दौरा पड़ने के बाद सेन का निधन हो गया. पार्टी के पूर्व पोलित ब्यूरो सदस्य दिसंबर के शुरू में स्वास्थ्य बिगड़ने के बाद से जीवनरक्षक प्रणाली पर थे और उनकी हालत गंभीर बनी हुई थी. अस्पताल के एक अधिकारी ने बताया कि सेन गुर्दे की बीमारी से पीड़ित थे और 2013 में उन्हें ब्रेन हैमरेज हुआ था. पार्टी सूत्रों ने कहा कि सेन का पार्थिव शरीर उनके निवास ले जाया जाएगा और फिर इसे एक निजी शवगृह पहुंचाया जाएगा. उन्होंने बताया कि बुधवार को सेन का शव यहां स्थित सीटू कार्यालय ले जाया जाएगा. इसके बाद इसे पार्टी के राज्य मुख्यालय पहुंचाया जाएगा जहां लोग उनके अंतिम दर्शन कर सकेंगे. उसी दिन उनके गृह नगर वर्द्धमान में उनका अंतिम संस्कार किया जाएगा.

थर्ड फ्रंट की कवायद में तेलंगाना सीएम, नवीन पटनायक के बाद आज ममता बनर्जी से करेंगे मुलाकात