कोलकाता: ज़ी मीडिया कॉरपोरेशन लिमिटेड के रीजनल चैनल ZEE 24 घण्टा ने 30 मई 2020 को 7 मंत्रियों के साथ एक ई कॉन्क्लेव का आयोजन किया. ZEE 24 घण्टा के नूतन दिशा (Notun Disha) ई-कॉन्क्लेव में पश्चिम बंगाल सरकार के विभिन्न विभागों के मंत्रियों ने भाग लिया. मंत्रियों के साथ लगातार साढ़े तीन घंटे सत्र चला.Also Read - West Bengal में कोविड-19 RTPCR टेस्‍ट का रेट घटा, लगभग आधे रुपए देने होंगे

गौरतलब है कि कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए पूरे देश में लागू लॉकडाउन 4.0 खत्म होने वाला है और पश्चिम बंगाल में COVID के पॉजिटिव मामले 30 मई तक 4813 हो गए. पहले से ही कोरोना की मार झेल रहे पश्चिम बंगाल में 20 मई को चक्रवात अम्फान ने बुरी तरह प्रभावित किया है. अत्यंत गंभीर चक्रवात ने हजारों घरों तबाह कर दिया, फसलों को नष्ट कर दिया. इस तूफान में 98 लोग मारे गए. राजधानी कोलकाता में भी भारी नुकसान हुआ था. Also Read - West Bengal: अब ट्रैफिक नियमों की अनदेखी महंगी पड़ेगी, अब 500 की जगह 5000 हजार रुपए फाइन लगेगा

इन मुश्किल हालातों के बावजूद, बंगाल की जनता इस स्थिति से निटपने और अपने भविष्य को लेकर चिंतित है. ऐसे में ZEE 24 घण्टा ने ने बंगाल सरकार के मंत्रियों के साथ ई-कॉनक्लेव आयोजित करने की पहल की, ताकि हमारे दर्शक जनजीवन को पटरी पर लाने की योजना के बारे में सरकारी कोशिशों को विस्तार से जान सकें. Also Read - Padma Awards: बंगाल के पूर्व मुख्यमंत्री बुद्धदेव भट्टाचार्य ने पद्म भूषण ठुकराया, कहा- 'मुझे इस सम्मान के बारे में किसी ने नहीं बताया'

ZEE 24 घन्टा के चैनल एडिटर अनिर्बान चौधरी ने कहा, “इन निराशाजनक समयों के दौरान, भविष्य को साहस और आशा के साथ जोड़े रखना महत्वपूर्ण है. नूतन दिशा प्रशासन के साथ सकारात्मकता फैलाने का जी मीडिया का प्रयास है जिसके तहत यह सुनिश्चित किया जा सके कि भविष्य के खतरे से कैसे निपटा जाए और इस लड़ाई को कैसे आगे बढ़ाया जाए.”

हर सेशन आधे-आधे घंटे तक चला. यहां नेता अपने संबंधित विभागों को लेकर, नीतियों और पहलों को लेकर आने वाले समय की रणनीति के बारे में बता रहे थे. इस दौरान वे हमारे दर्शकों को मजबूत बने रहने के लिए प्रोत्साहित भी कर रहे थे. सत्र में भाग लेने वाले मंत्री थे डॉ. अमित मित्रा, फिरहाद हकीम, चंद्रिमा भट्टाचार्य, ज्योतिप्रिया मल्लिक, राजीब बनर्जी, सुजीत बोस और सुब्रत मुखर्जी. इस कॉनक्लेव में विभिन्न मंत्रालयों को शामिल किया गया ताकि दर्शक विभिन्न सेक्टर्स के रिवाइवल प्लान के बारे में जानकारी हासिल कर सकें.

इस अवसर पर बोलते हुए, ZMCL क्लस्टर 2 के सीईओ, श्री पुरुषोत्तम वैष्णव ने कहा, “नूतन दिशा ZMCL की ई-विमर्ष श्रृंखला का एक हिस्सा है. कोरोना के कारण इतनी अनिश्चितता के बावजूद, यह महत्वपूर्ण है कि नेता सीधे हमारे नागरिकों को उचित सवालों का जवाब दें. यही ई-विमर्ष सीरीज की अवधारणा के पीछे एकमात्र उद्देश्य रहा है. बंगाल पर विशेष रूप से ध्यान केंद्रित किया गया क्योंकि राज्य बढ़ते कोविड-19 मामलों के साथ एक नाजुक स्थिति में है और विनाशकारी चक्रवात Amphan ने इसे और जख्म दिए हैं.”