Galwan Valley: लद्दाख में भारत-चीन के सैन‍िकों के बीच मुठभेड़ की खबर के बाद गलवान घाटी चर्चा में आ गई है. यह वो घाटी है, जहां भारत और चीनी सेना के बीच हिंसक झड़प की खबरे हैं. Also Read - कांग्रेस ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से किए 4 सवाल, कहा- क्या भारत के दावे को गलवान घाटी में कमजोर किया जा रहा है?

गलवान घाटी
ये घाटी भारतीय इत‍िहास में पहले भी चर्चा में रही है. वजह है 1962 का भारत-चीन युद्ध. इसी घाटी में चीनी सेना ने उस समय भी भारत को धोखा द‍िया था. आज भी वही इत‍िहास दोहराया गया है. खबर है क‍ि इसी घाटी में ह‍िंसक झड़प में भारतीय सेना के एक अधिकारी और दो जवान शहीद हो गए हैं. Also Read - Video: चीन बॉर्डर के पास दिखी इंडियन एयरफोर्स की ताकत, रात में किए ऑपरेशन

गलवान घाटी का पूरा इलाका लद्दाख में आता है. यहीं नदी भी बहती है. यहां के विवादित क्षेत्रों में चीनी सेना टेंट लगाती है ज‍िसका व‍िरोध भारत करता है. जानकार कहते हैं क‍ि चीनी सेना द्वारा यहां टेंट लगाने का मकसद दरअसल भारतीय सेना को उकसाना होता है. Also Read - India-China Border Issue: NSA अजित डोभाल ने संभाला मोर्चा तो पीछे हटी चीनी सेना! कल चीन के विदेश मंत्री से की थी बात

इत‍िहास के जानकार कहते हैं क‍ि 1962 में भारत-चीन के बीच जो युद्ध हुआ, उस समय पहली बार तनाव इसी घाटी से आरंभ हुआ. आज फ‍िर भारतीय सैन‍िकों के मारे जाने से तनाव और ज्यादा बढ़ गया है.

बता दें क‍ि भारत और चीनी सेना के बीच काफी वक्त से लद्दाख में तनाव जारी है. तमाम बैठकों के बाद भी यह विवाद खत्‍म होने का नाम नहीं ले रहा. खबरों के मुताब‍िक, सोमवार रात गलवान इलाके में तनाव इस कदर बढ़ गया कि हिंसक झड़प में भारतीय सेना के अफसर और 2 जवान शहीद हो गए हैं.