नई दिल्ली: पीएम नरेंद्र मोदी आज राष्ट्र को संबोधित किया. इस दौरान वह अंतरिक्ष को लेकर भारत की उपलब्धियों का ज़िक्र किया. उन्होंने मिशन शक्ति को लेकर देश को जानकारी दी है. दुश्मन अब अंतरिक्ष में भी नहीं बचेगा. जासूसी करने वाली सैटेलाइट को अब भारत अंतरिक्ष में भी गिरा सकता है.

इस तरह इतिहास में दर्ज हुआ भारत का नाम
पीएम मोदी ने बताया कि अंतरिक्ष में भारत का ‘मिशन शक्ति’ कामयाब हुआ है. भारत ने मिशन शक्ति को सिर्फ तीन मिनट में पूरा किया है. भारत ने सिर्फ तीन मिनट में सैटेलाइट को मार गिराया है. ऐसा करने वाला भारत रूस, चीन, अमेरिका के बाद चौथा देश बना है. इतनी बड़ी कामयाबी सिर्फ तीन मिनट में मिली है. इसके साथ ही पीएम ने कहा कि अंतरिक्ष क्षेत्र में भारत ने जो काम किया है, उसका मूल उद्देश्य भारत की सुरक्षा है. ये किसी के खिलाफ नहीं है. उन्होंने बताया कि भारत ने एंटी सैटेलाइट मिसाइल का सफल प्रक्षेपण किया है. भारत ने आज अंतरिक्ष इतिहास में अपना नाम दर्ज कराया है. भारत ने इसे मिशन शक्ति नाम दिया है.

LIVE: देश के नाम महत्वपूर्ण संदेश दे रहे हैं पीएम मोदी, पढ़ें ये अपडेट्स

लो अर्थ ऑर्बिट से होती है जासूसी, भारत ने यहीं मार गिराई मिसाइल
अंतरिक्ष एक इलाका होता है, जिसे लो अर्थ ऑर्बिट कहा जाता है. भारत ने लो अर्थ ऑर्बिट में ही 300 किमी की दूरी पर एक लाइव सैटेलाइट को मार गिराया है. जासूसी के लिए लो अर्थ ऑर्बिट में ही सैटेलाइट को लॉन्च किया जाता है. जासूसी करने वाली ऐसी ही सैटेलाइट को भारत ने मार गिराया है.

भारतीय वैज्ञानिकों की बड़ी कामयाबी
पीएम ने कहा कि मिशन शक्ति भारत को किसी भी असुरक्षा से बचाएगा. उन्होंने कहा कि भारत ने किसी भी अंतर्राष्ट्रीय संधि का उलंघन नहीं किया है. बताया जा रहा है कि DRDO ने इसे कामयाब बनाया है. इसके लिए पीएम ने भारतीय वैज्ञानिकों की तारीफ़ भी की है. इसे लेकर नितिन गडकरी ने कहा कि भारतीय वैज्ञानिकों ने बड़ी कामयाबी हासिल की है. तकनीकि के मामले में देश दुनिया के चार प्रथम देशों में शामिल हो गया है. ऐसी तकनीकि दुनिया के बेहद कम देशों के पास है, जिससे अंतरिक्ष में भी निशाना लगाया जा सकता है.