नई दिल्ली: दिल्ली में 70 सदस्यीय विधानसभा के लिए 8 फरवरी को होने वाले चुनाव से पहले बीजेपी के नेतृत्व ने संशोधित नागरिकता कानून और यहां शाहीन बाग में एक महीने से भी अधिक समय से उसके खिलाफ हो रहे प्रदर्शन को लेकर सत्तारूढ़ आम आदमी पार्टी (आप) और कांग्रेस पर हमला तेज कर दिया.  दिल्‍ली के शाहीन बाग में चल रहे सीएए विरोधी प्रदर्शन पर केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने शुक्रवार को कहा कि दिल्ली के लोगों को यह तय करने की जरूरत है कि वे ‘जिन्ना वाली आजादी’ चाहते हैं या ‘भारत माता की जय’. Also Read - जम्मू में जुटे ‘ग्रुप ऑफ 23’ के नेता, कांग्रेस बोली- चुनावी राज्यों में प्रचार कर अपनी पार्टी के प्रति निष्ठा दिखाएं

जावडेकर ने दिल्‍ली में प्रेस कॉन्‍फ्रेस में कहा, ”हमने वहां ‘जिन्ना वाली आजादी’ नारे लगाए जाते देखा है. अब दिल्ली के लोगों को तय करने की जरूरत है कि वे ‘जिन्ना वाली आजादी’ चाहते हैं या ‘भारत माता की जय’.” Also Read - West Bengal Assembly Elections 2021 Opinion Poll: बंगाल में फिर एक बार ममता सरकार! लेकिन 3 से 100 पर पहुंच सकती है भाजपा; जानिए क्या है जनता का मूड

केंद्रीय मंत्री जावडेकर ने आम आदमी पार्टी और कांग्रेस पर अल्पसंख्यकों के दिमाग में ‘जहर घोलने’ का भी आरोप लगाया. Also Read - बीजेपी ने काउंटर नारे से ममता बनर्जी पर साधा निशाना, कहा- बंगाल को अपनी बेटी चाहिए, बुआ नहीं

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने आप और कांग्रेस पर राष्ट्रीय राजधानी में सीएए के खिलाफ हिंसक प्रदर्शन भड़काने का आरोप लगाया. उन्होंने कहा, दिल्ली के लोगों को दोनों ही पार्टियों से पूछना चाहिए कि उन्होंने हिंसा क्यों भड़काई? शाहीन बाग प्रदर्शन के पीछे आप और कांग्रेस के बीच की साठगांठ ही है. मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल और उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने प्रदर्शन का समर्थन किया है.

जामिया मिल्लिया इस्लामिया में हिंसक सीएए विरोध प्रदर्शन के बाद मध्य दिसंबर में शाहीन बाग में प्रदर्शन शुरू हुआ था. उसकी वजह से नोएडा और दक्षिणपूर्व दिल्ली को जोड़ने वाली यह सड़क जाम है और बदरपुर, सरिता विहार, मदनपुर खादर और जसोला समेत आसपास के इलाके के लोगों को भारी परेशानी हो रही है.

केंद्रीय मंत्री प्रकाश जावडेकर ने कहा, ” वे (आप और कांग्रेस) बच्चों समेत अल्पसंख्यकों को गुमराह कर रही हैं और उनके दिमाग में जहर घोल रही हैं.” उन्होंने कहा, ” केजरीवाल को ‘जिन्ना वाली आजादी ’ नारे लगाने वाले लोगों से सहानुभूति है, न कि उत्पीड़न के शिकार (बांग्लादेश, पाकिस्तान और अफगानिस्तान के) अल्पसंख्यकों से.”

आप ने भाजपा पर दिल्ली चुनाव से पहले विकास के मुद्दे से ध्यान बंटाने का आरोप लगाया है. दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने बीजेपी वाले हरियाणा में जाट बनाम गैर-जाट करते हैं. महाराष्ट्र में मराठा बनाम गैर-मराठा, गुजरात से हिंदू-मुस्लिम के नाम पर वोट मांगते हैं. कल दिल्ली में अमित शाह स्कूल, अस्पताल और वाई-फाई की बात कर रहे थे. दिल्ली मे इनकी जात-पात की राजनीती नहीं चलती है.