इंफोसिस के सीईओ और एमडी विशाल सिक्का के इस्तीफा देने का बाद आज डायरेक्टर बोर्ड ने प्रेस कांफ्रेंस कर साफ कर दिया कि वह पूरी तरह सिक्का के साथ है. इस दौरान खुद विशाल सिक्का भी मौजूद थे जिन्होंने साफ किया कि किन हालातों में उन्हें इस्तीफा देना पड़ा. उन्होंने इंफोसिस के संस्थापक नारायणमूर्ति पर उंगली उठाई. Also Read - प्रमुख सॉफ्टवेयर कंपनी इंफोसिस के तीन कर्मचारी धोखाधड़ी के आरोप में गिरफ्तार

को चेयरमैन रवि वेंकटेशन ने बताया कि यूबी प्रवीण राव को अंतरिम सीईओ और एमडी की जिम्मेदारी दी गई है. वह विशाल सिक्का को रिपोर्ट देते रहेंगे जो कंपनी के साथ कार्यकारी वाइस चेयरमैन के तौर पर जुड़े रहेंगे. वेंकटेशन ने कहा कि हमने बहुत दुख के साथ विशाल सिक्का का इस्तीफा स्वीकार किया है. पूरी तौर पर इसकी वजह समझ सकते हैं. Also Read - इंफोसिस के सह-संस्थापक नारायण मूर्ति के दामाद ऋषि सुनक बने ब्रिटेन के नये वित्त मंत्री

प्रेस कांफ्रेंस के दौरान वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए विशाल सिक्का ने कहा, कई मायनों में ये दुख भरा दिन है. कई मायनों में ये अच्छा भी है. मैंने तीन साल पहले इस कंपनी को ज्वाइन किया था. हमने तो नतीजे हासिल किए उससे बहुत खुश हूं.

सिक्का ने कहा, सबसे मुश्किल ये था कि लगातार एक ही बात को लेकर आरोप लग रहे थे. इसके बाद हम इस नतीजे पर पहुंचे कि मैं एक्जीक्यूटिव वाइस चेयरमैन के तौर पर बना रहूंगा. यूपी प्रवीण राव अंतरिम सीईओ-एमडी के तौर पर काम करेंगे.

उन्होंने कहा, एक प्वाइंट पर आप महसूस करते हैं कि कंपनी और निजी तौर पर भी ये कुछ ज्यादा ही भारी पड़ रहा है. इसलिए मैंने महसूस किया कि ये एक असहनीय स्थिति है.