Afghanistan, Pakistan, China, Rajnath Singh, LAC,Galwan Valley, Talibal, Kabul Airport,  News: रक्षा मंत्री राजनाथ ने आज सोमवार को कहा, पड़ोस के अफगानिस्तान में जो कुछ भी घटित हो रहा है वह सुरक्षा की दृष्टि से नए सवाल खड़े कर रहा है. वहां के हालात पर हमारी सरकार लगातार नजर बनाए हुए है. रक्षामंत्री ने कहा, राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर कुछ नए खतरे भी सामने आए है, जो आधुनिक तकनीक के विकास के कारण देखने को मिले है. जम्मू में एयरफोर्स स्टेशन की घटना ने इस तरफ हम सबका ध्यान आकर्षित किया है. हमें राष्ट्रीय सुरक्षा तंत्र को नई चुनौतियों के लिए लगातार अपडेट और अपग्रेड करते रहना है.Also Read - बाइडन ने संयुक्त राष्ट्र में कहा- अमेरिका अफ़ग़ानिस्तान से वापस लौटा, अब कोई नया युद्ध नहीं चाहता

Also Read - अफगानिस्तान में तालिबान ने IPL प्रसारण पर रोक लगाई, स्टेडियम में मौजूद लड़कियों को बताया वजह

मोदी जी के नेतृत्व में हम भारत की सीमा, उसके सम्मान और स्वाभिमान से समझौता नहीं करेंगे
रक्षा मंत्री ने कहा- मैं आप सभी को आश्वस्त करना चाहता हूं कि प्रधानमंत्री मोदी जी के नेतृत्व में हम भारत की सीमा, उसके सम्मान और स्वाभिमान से समझौता नहीं करेंगे. सीमाओं की पवित्रता को हम कतई भंग नही होने देंगे. Also Read - Pakistan की एक बार फिर फजीहत, Sri Lanka समेत इस टीम ने भी किया दौरे से इनकार

भारत के सामरिक हितों की रक्षा मजबूती देने का काम
राष्ट्रीय सुरक्षा की दृष्टि से चाहे बाह्य सुरक्षा हो या आन्तरिक सुरक्षा या फिर कूटनीतिक मोर्चे पर भारत के सामरिक हितों की रक्षा और उन्हें मजबूती देने का काम हो, हम हर मोर्चे पर भारत की एकता, अखंडता और सुरक्षा के लिए पूरी तरह प्रतिबद्ध है.

राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर जिस बड़े पैमाने पर काम चल रहा
रक्षा मंत्री ने कहा, भारत की राष्ट्रीय सुरक्षा को लेकर जिस बड़े पैमाने पर काम चल रहा है वह अपने आप में अभूतपूर्व है. सुरक्षा से जुड़े हर विभाग के बीच एक बहुत अच्छा तालमेल देखने को मिल रहा है.

सेनाओं को बता रखा है, LAC पर किसी भी एकतरफा कार्रवाई को नजरअंदाज नहीं किया जाए
रक्षा मंत्री ने कहा, प्रधानमंत्री मोदीजी के नेतृत्व में सरकार ने सेनाओं को यह स्पष्ट बता रखा है कि LAC पर किसी भी एकतरफा कार्रवाई को नजरअंदाज नहीं किया जाना चाहिए. गलवान में उस दिन भारतीय सेना ने यही किया और पूरी बहादुरी से PLA के सैनिकों का मुकाबला करते हुए उन्हें पीछे जाने पर मजबूर किया.

गलवान में भारतीय सेना ने जिस शौर्य का परिचय, वह अतुलनीय
राजनाथ सिंह ने कहा, ”गलवान की घटना को एक वर्ष बीत चुका है मगर जिस शौर्य, पराक्रम और साथ में संयम का परिचय भारतीय सेना ने दिया है, वह अतुलनीय है और आने वाली पीढ़ियां भी उन जांबाज सैनिकों पर गर्व करेंगी.

लद्दाख-उत्तर पूर्व में बुनियादी ढांचा परियोजनाओं पर काम
रक्षा मंत्री ने कहा- लद्दाख के साथ-साथ उत्तर पूर्व में भी काफी बुनियादी ढांचा परियोजनाओं पर काम चल रहा है. यह सब देश में सिर्फ एक इ्न्फ्रा प्रोजेक्ट भर नहीं है, बल्कि राष्ट्रीय सुरक्षा ग्रिड का अहम हिस्सा है.