लखनऊ। पूर्व प्रधानमंत्री और सबके चहेते नेता अटल बिहारी वाजपेयी आज हमारे बीच में नहीं हैं लेकिन उनसे जुड़े कई किस्से और यादें आज भी ज़हन में ताजा हैं. ऐसा ही एक किस्सा है उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के मेयर चुनाव के दौरान उनकी एक सभा का. इस सभा में अटल ने अपनी वाकपटुता से लोगों का ऐसा दिल जीता कि बीजेपी उम्मीदवार को जीत मिल गई.

2006 का किस्सा

किस्सा साल 2006 का है. लखनऊ के कपूरथला चौराहे पर 2006 में जमा भाजपा कार्यकर्ता और अटल बिहारी वाजपेयी के प्रशंसक उस समय हैरत में पड़ गए, जब पूर्व प्रधानमंत्री ने उनसे अचानक पैजामा मांग लिया. उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री दिनेश शर्मा आज भी इस वाकये को याद कर भावुक हो उठते हैं.

7 दशक तक वाजपेयी-आडवाणी की दोस्ती रही अटल, मिलकर जनसंघ को पहुंचाया बुलंदियों पर

दिनेश शर्मा ने भावुक होते हुए कहा, अटल जी मेयर चुनाव के दौरान मेरे समर्थन में सभा करने कपूरथला पहुंचे. उन्हें तेज बुखार था. उन्होंने भाषण की शुरुआत की और कहा कि वह अपनी छवि मुझमें देखते हैं. उन्होंने जनता से कहा कि अगर वह वाकई इस नारे को मानती है कि ‘हमारा नेता कैसा हो, अटल बिहारी जैसा हो’ तो उसे मेरा समर्थन करना चाहिए.

अटल बिहारी वाजपेयी ने बहुत पहले ही कहा था-मौत से आखिरी दम तक दो-दो हाथ करूंगा

शर्मा ने कहा, अटल जी के भाषणों का जनता पर बहुत असर होता था. उन्होंने जनता से पूछा कि अगर वह केवल कुर्ता पहनें और पैजामा ना पहनें तो कैसे दिखेंगे. जनता हैरत में थी कि दरअसल अटल जी क्या कहना चाहते हैं. कोई चिल्लाया, खराब दिखेंगे. अटल जी ने कहा कि लखनऊ से सांसद का चुनाव जिताकर आप लोगों ने मुझे कुर्ता दिया. मुझे नगर निगम मेयर चुनाव में जीत दर्ज कर पैजामा भी चाहिए.

शर्मा ने कहा कि अटल जी के भाषण ने उन्हें जीत दिलाई. शर्मा 2006 से 2017 तक लखनऊ के मेयर रहे. विधानसभा चुनाव में भाजपा की जीत के बाद योगी सरकार में वह उप मुख्यमंत्री बनाए गए.

(भाषा इनपुट)