चेन्नई: रक्षामंत्री निर्मला सीतारमण ने जम्मू एवं कश्मीर में एलओसी के पार की गई सर्जिकल स्ट्राइक की दूसरी वर्षगांठ पर शनिवार को कहा कि सीमा पर पाकिस्तान के खिलाफ निवारक कार्रवाई जारी रहेगी. उन्होंने कहा, “सीमा पर हमारी कार्रवाई जारी रहेगी, चाहे उसने सबक सीखा हो या नहीं.” बता दें कि इंडियन आर्मी ने साल 2016 में 29 सितंबर को नियंत्रण रेखा पार करके बड़ी कर्रवाई करते हुए कई आतंकी ठिकाने ध्वस्त किए थे. इसमें बड़ी संख्या में आतंकी मारे गए थे. भारत ने सीमा पार सैन्य हमले की दूसरी वर्षगांठ को ‘पराक्रम पर्व’ के रूप में मनाया है. इस हमले को सर्जिकल स्ट्राइक के नाम से जाना जाता है.

वहीं, गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने दावा किया कि सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) ने अपने जवान की हत्या के बदले में दो दिन पहले सीमा पर पाकिस्तानी बलों के खिलाफ सख्त कदम उठाया है. उन्होंने मीडिया से कहा, “सीमा पर घुसपैठ हो रही है और हम सीमा पर ही बहुत से घुसपैठियों को ढेर कर चुके हैं, उन्हें घुसपैठ की इजाजत नहीं दी जाएगी. मुझे विश्वास है कि इस तरह की एक कार्रवाई पाकिस्तान को प्रशिक्षण और आतंकवादियों को भेजने से रोकती है.”

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में शुक्रवार को आयोजित एक जनसमारोह में राजनाथ ने कहा था, “बीएसएफ के हवलदार नरेंद्र सिंह की हत्या के बदले में हाल ही में सीमा पर कुछ बड़ी कार्रवाई हुई है.”

इंटरनेशनल सीमा से सटे रामगढ़ सेक्टर में 18 सितंबर को पाकिस्तानी बलों ने नरेंद्र सिंह की हत्या कर दी थी. राजनाथ ने कहा, “कुछ हुआ है और भविष्य में भी ऐसा ही होगा. मैंने बीएसएफ के जवानों से कह दिया है कि पाकिस्तान हमारा पड़ोसी है और आपको पहले गोली नहीं चलानी है. लेकिन, उधर से गोली चले तो फिर अपनी गोलियां नहीं गिननी.”

बीएसएफ के महानिदेशक के.के. शर्मा ने बीएसएफ की कार्रवाई पर ज्यादा जानकारी देने से इंकार करते हुए कहा कि हत्या के बदले नियंत्रण रेखा पर बल ने कार्रवाई की है. भारत ने सीमा पार सैन्य हमले की दूसरी वर्षगांठ को ‘पराक्रम पर्व’ के रूप में मनाया है. इस हमले को सर्जिकल स्ट्राइक के नाम से जाना जाता है.