नई दिल्ली. बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने मंगलवार को राज्यसभा में भड़क उठीं. मायावती ने सहारनपुर में हिंसा का मुद्दा उठाते हुए आरोप लगाया कि उत्तर प्रदेश में दलितों पर आए दिन अत्याचार हो रहे हैं. मायावती के इस आरोप से सत्तारूढ़ दल के सदस्य बिगड़ गए और सदन में शोर शराब होने लगा. इस पर मायावती ने कहा कि अगर उन्हें बोलने नहीं दिया गया तो वह राज्यसभा की सदस्यता से इस्तीफा दे देंगी.

मायावती के लिए सदन में हंगामे के बीच बोलने की कोशिश का यह पहला मौका नहीं था. लेकिन इसमें नई बात ये है कि राज्यसभा में वापसी के लिए उन्हें इस बार जैसी मुश्किल झेलनी पड़ेगी वैसी कभी नहीं पड़ी होगी. मायावती की राज्‍यसभा सदस्‍यता 2018 में समाप्‍त होने वाली थी. इसके बाद संसद के उपरी सदन में लौटने के लिए जो संख्याबल चाहिए वो माया के पास है ही नहीं. 2017 में हुए यूपी विधानसभा चुनाव में बीएसपी को सिर्फ 19 सीटें मिली, जो मायावती को राज्यसभा पहुंचाने के लिए नाकाफी हैं.

मायावती की सदस्यता समाप्त होने के बाद पार्टी को 2019 के चुनावी समर में उतरना है. 2019 तक पार्टी का एकमात्र चेहरा मायावती किसी भी सदन का हिस्सा नहीं होंगी. हालांकि कुछ समय पहले बिहार में लालू प्रसाद यादव की पार्टी राष्‍ट्रीय जनता दल (आरजेडी) ने घोषणा करते हुए कहा था कि वह राज्‍यसभा की उम्‍मीदवारी में मायावती का समर्थन करेगी. अगर आरजेडी समर्थन करती है तो मायावती 2018 में राज्‍यसभा में लौट सकती हैं.

यूपी में दरक रही सियासी जमीन के बीच मायावती के इस्‍तीफे की घोषणा को उनके बड़े सियासी पैंतरे के रूप में देखा जा रहा है. एक्सपर्ट बताते हैं कि मायावती को यह लगने लगा है कि बीजेपी की नजर बीएसपी के कोर वोट बैंक पर है. अबकी बार के राष्‍ट्रपति चुनाव में एनडीए और यूपीए दोनों ने ही दलित कार्ड खेला है. एनडीए की ओर से जहां रामनाथ कोविंद मैदान में हैं, वहीं यूपीए की तरफ से मीरा कुमार मैदान में हैं. मौजूदा परिदृश्‍य में रामनाथ कोविंद का जीतना तय माना जा रहा है. बीजेपी ने ही सबसे पहले ‘दलित कार्ड’ खेलते हुए कोविंद को मैदान में उतारा था. इसको बीएसपी के कोर वोट बैंक में सेंधमारी के रूप में देखा जा रहा है.

अबकी बार यूपी विधानसभा चुनाव में मायावती की बीएसपी को महज 19 सीटें मिली हैं. बीजेपी ने 403 सदस्‍यीय विधानसभा में 325 सीटों का प्रचंड बहुमत मिला है. उसके बाद से ही माना जा रहा था कि बीएसपी के किले में बीजेपी ने जबर्दस्‍त सेंधमारी कर दी है.