प्रधानमंत्री मोदी ने खेल रत्न पुरस्कार (Khel Ratna Award) का नाम मेजर ध्यानचंद के नाम पर रखे जाने के बाद विश्वास व्यक्त किया कि खेल पुरस्कार के साथ जुड़ा ‘हॉकी के जादूगर’ का नाम देश के करोड़ों युवाओं को प्रेरित करेगा. पीएम मोदी ने प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना के द्वितीय चरण की महोबा में डिजिटल माध्यम से शुरुआत करने के बाद अपने संबोधन में कहा ‘हम इस मौके पर बुंदेलखंड की एक और महान संतान मेजर ध्यान चंद यानी हमारे दद्दा ध्यानचंद को स्मरण कर रहे हैं.Also Read - मेरे जन्मदिन पर 2.5 करोड़ टीके लगने से एक राजनीतिक दल को बुखार आ गया: PM मोदी

उन्होंने कहा कि देश के सर्वोच्च खेल पुरस्कार का नाम अब मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार हो गया है. मुझे पूरा विश्वास है कि ओलंपिक में हमारे युवा साथियों के अभूतपूर्व प्रदर्शन के बीच खेल रत्न के साथ जुड़ा दद्दा का यह नाम लाखों करोड़ों युवाओं को प्रेरित करेगा.’ उन्होंने टोक्यो ओलंपिक में भारत के बेहतर प्रदर्शन की तरफ इशारा करते हुए कहा, ‘इस बार हमारे खिलाड़ियों ने मेडल तो जीते ही अनेक खेलों में दमदार प्रदर्शन करके भविष्य का संकेत भी दे दिया है.’ Also Read - Vaccination Drive: पीएम मोदी के जन्मदिन पर रिकॉर्ड वैक्सीनेशन, पहली बार 2 करोड़ से ज्यादा लगे टीके

Also Read - बिहार सीएम नीतीश ने की टीकाकरण महाअभियान की शुरूआत, खुद लिखकर दी पीएम को जन्मदिन की बधाई

गौरतलब है कि केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार ने बीते 6 अगस्त को पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी के नाम पर रखे गए देश के सर्वोच्च खेल पुरस्कार का नाम ‘राजीव गांधी खेल रत्न पुरस्कार’ से बदलकर ‘मेजर ध्यानचंद खेल रत्न पुरस्कार’ कर दिया है.

(इनपुट: भाषा)