Unlock 1.0 in Delhi: राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली में अनलॉक-1 के बाद से ही कोरोना वायरस के मामले तेजी से बढ़ रहे है. दिल्ली में कोरोना के हालात लगातार भयावह होते जा रहे हैं. सरकार द्वारा जारी आंकड़ों के मुताबिक दिल्ली में कोरोना मरीजों की संख्या 40 हजार के आंकड़े को छुने वाली है. अब तक दिल्ली में कुल 38 हजार 958 लोग कोरोना का शिकार है. पिछले 24 घंटे में कोरोना के 2100 से अधिक मामले सामने आए हैं. तेजी से फैल रहे कोविड-19 के खतरे के बीच दिल्ली में एक बार फिर से बाजारों को बंद करने की बात शुरू हो गई है. Also Read - दिल्ली में कोरोना के 2,505 नये मामले, एक लाख के करीब पहुंचा संक्रमितों का आंकड़ा

तेजी से फैल रहे कोरोनावायर से अब बाजार के व्यापारी भी डरे और सहमें हुए हैं. अब कन्फेडरेशन ऑफ ऑल इंडिया ट्रेडर्स ने दिल्ली में बाजार को बंद करने के लिए व्यापारियों से सुझाव मांगे हैं. सीएआईटी ने ऑनलाइन माध्यम से दिल्ली के ट्रेडर्स एसोसिएशन की राय मांगी है. सर्वे में 2800 ट्रेडर्स ओसोसिएशन से इस बारे में सवाल पूछा गया है कि क्या ऐसे हालात में बाजारों को खोले रखना सही होगा या फिर इससे निपटने के लिए आपके सुझाव. Also Read - दिल्ली में बोले शिवराज, भोपाल पहुंचने पर करूंगा विभागों का बंटबारा

CAIT को अभी तक 2610 ट्रेडर्स के जवाब मिल चुके हैं. दिल्ली ट्रेड्रस एसोसिएशन ने अपने जवाब में कई बड़ी बाते कही हैं. Also Read - गृह मंत्री अमित शाह और रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने DRDO के 1000 बेड्स वाले अस्पताल का किया दौरा

दिल्ली में काम करने वाले 99.4 फीसदी से अधिक व्यापारी मानते हैं कि राजधानी में कोरोना का प्रसार तेजी से हो रहा है.

92 फीसदी से अधिक व्यापारियों का मानना है कि अगर बाजार इसी तरह से खुले रहे तो हालात और अधिक बुरे हो जाएंगे.

96.6 प्रतिशत व्यापारी बाजार में फैल रहे कोरोनावायरस से चिंतित हैं और उन्हें अपने स्वास्थ्य की भी चिंता हो रही है.

88.1 फीसदी व्यापारी कोरोनावायरस के खतरे के चलते बाजार को बंद करने के पक्ष में हैं.

CAIT ने अपने सर्वे की रिपोर्ट गृहमंत्री अमित शाह, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री, दिल्ली के उपराज्यपाल अनिल बैजल और दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल को भेज दी है. जिससे दिल्ली के व्यापारियों की चिंता को गंभीरता से लिया जाए और जल्द समाधान निकाला जाए.