Kerala Election: केरल विधानसभा चुनाव के वास्ते ‘मेट्रोमैन’ ई श्रीधरन को BJP के मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार बनाए जाने का ट्वीट करने के कुछ ही देर बाद केंद्रीय मंत्री वी मुरलीधरन ने स्पष्ट किया कि पार्टी ने ऐसी कोई घोषणा नहीं की है. मुरलीधरन ने स्पष्ट किया कि वह यह बताना चाहते थे कि मीडिया के मार्फत उन्हें पता चला कि पार्टी ने श्रीधरन को मुख्यमंत्री पद का प्रत्याशी घोषित किया है. उन्होंने कहा कि लेकिन उन्होंने भाजपा की केरल इकाई के अध्यक्ष के सुरेंद्रन से इसका सत्यापन किया एवं उन्होंने कहा कि उन्होंने ऐसा कोई ऐलान नहीं किया है. Also Read - Covid-19 पर सियासी जंग: केंद्रीय मंत्री डॉ हर्षवर्धन ने पूर्व पीएम मनमोहन पर किया पलटवार, पत्र ट्वीट कर कसा ये तंज

पूर्व प्रदेश अध्यक्ष मुरलीधरन ने इससे पहले ट्वीट किया था, ‘केरल भाजपा ई श्रीधरन जी को मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश करके केरल चुनाव लड़ेगी. हम केरल के लोगों को भ्रष्टाचार मुक्त और विकासोन्मुखी शासन प्रदान करने के लिए माकपा और कांग्रेस को हरायेंगे.’ विधानसभा चुनाव में श्रीधरन के नेतृत्व संबंधी उनका सोशल मीडिया पोस्ट आने से कुछ ही घंटे पहले प्रदेश भाजपा अध्यक्ष के सुरेंद्रन ने कहा कि था कि उन्होंने पार्टी नेतृत्व से श्रीधरन को राजग के मुख्यमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित करने का अनुरोध किया है. Also Read - जब ऑक्सीजन टैंकर की पूजा करने में लग गए बीजेपी नेता और मंत्री, कांग्रेस ने बोला हमला

मुरलीधरन द्वारा ट्वीट पर स्पष्टीकरण दिये जाने का हवाला देते हुए कांग्रेस नेता शशि थरूर ने भाजपा को निशाना पर लेते हुए ट्वीट किया, ‘हास्यास्पद. केरल भाजपा इस बात को लेकर भ्रमित हो गई कि उस भवन के शीर्ष तल पर कौन होगा जो (भवन) कभी बनेगा ही नहीं. केरल में भाजपा का मुख्यमंत्री होगा ही नहीं.’ ये सब बातें उस दिन हुईं जिस दिन 88 वर्षीय टेक्नोक्रैट ने भी गुरुवार को दिल्ली मेट्रो रेल निगम के साथ अपने 24 साल के करियर को समाप्त करने के अपने निर्णय की घोषणा की. Also Read - बीजेपी चलाएगी 'अपना बूथ, कोरोना मुक्त' अभियान, JP Nadda ने दिए निर्देश

सुरेंद्रन ने पहले कहा था, ‘यदि राजग को मेट्रोमैन के नेतृत्व में राज्य में शासन का अवसर मिलता है तो हमें विश्वास है कि हम प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अगुवाई में केरल में दस गुणा ताकत के साथ विकास कार्यों को लागू करेंगे.’ उन्होंने तिरुवल्ला में पार्टी की एक बैठक में पेलारिवेत्तम फ्लाईओवर के निर्धारित समय सीमा से काफी पहले बस पांच महीने में पुनर्निर्माण समेत श्रीधरन की उपलब्धियों का बखान किया.

उन्होंने अपने नेतृत्व में निकाली गयी ‘विजय यात्रा’ के तहत आयोजित बैठक में कहा, ‘उन्होंने पांच महीने में यह परियोजना बिना किसी भ्रष्टाचार के पूरा की. यही वजह है कि हमने श्रीधरन एवं अपने पार्टी नेतृत्व से अनुरोध किया है कि उन्हें राजग के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार के रूप में पेश किया जाए.’ यह पहली बार था कि पार्टी ने संकेत दिया कि श्रीधरन राजग के मुख्यमंत्री पद के उम्मीदवार होंगे. श्रीधरन भाजपा के टिकट पर छह अप्रैल को होने वाले विधानसभा का चुनाव लड़ने के लिए तैयार हैं. उन्होंने कहा कि डीएमआरसी के प्रधान सलाहकार के पद से इस्तीफा देने के बाद वह नामांकन पत्र भरेंगे.

(इनपुट: भाषा)