पणजी: गोवा में बीजेपी सरकार को महत्वपूर्ण समर्थन देने वाले दो दलों – महाराष्ट्रवादी गोमंतक पार्टी (एमजीपी) और गोवा फॉरवर्ड पार्टी (जीएफपी) ने मनोहर पर्रिकर के मुख्यमंत्री बने रहने तक समर्थन वापसी की संभावना से इनकार किया है. 40 सदस्यीय प्रदेश विधानसभा में बीजेपी के विधायकों की संख्या 14 है. उसे एमजीपी और जीएफपी के तीन-तीन विधायकों और तीन निर्दलीय विधायकों का समर्थन हासिल है. दोनों दलों का समर्थन महत्व रखता है क्योंकि भाजपा को सत्ता में बने रहने के लिए कम से कम 21 विधायकों के समर्थन की जरूरत है.Also Read - Parliament Winter Session: विपक्षी नेताओं ने की मुलाकात, वेंकैया नायडू की दो टूक-सांसदों को माफी मांगनी ही होगी

एमजीपी के प्रमुख दीपक धवलिकर ने यहां पीटीआई-भाषा से कहा, ‘‘महाराष्ट्र गोमतांक पार्टी ने बीजेपी नेतृत्व वाले गठबंधन को अपना समर्थन दिया है और जब तक पर्रिकर मुख्यमंत्री हैं, हम समर्थन वापस नहीं लेंगे.’’ पर्रिकर 15 फरवरी से मुंबई के लीलावती अस्पताल में भर्ती हैं.उनका अग्न्याशय संबंधी बीमारी का इलाज चल रहा है. Also Read - कब बहाल होगा जम्मू कश्मीर का राज्य का दर्जा? भाजपा बोली- पहले चुन कर की जा रही हत्याएं बंद हों

धवलिकर ने पर्रिकर के जल्द लौटने और कमान संभालने की उम्मीद जताते हुए कहा कि अगर वह लंबे समय तक दूर रहते हैं तो भी समर्थन वापस लेने का सवाल नहीं उठता. उन्होंने कहा, ‘वह जब तक मुख्यमंत्री हैं, हम सरकार के साथ हैं.’’जीएफपी के अध्यक्ष विजय सरदेसाई ने कहा कि जब तक पर्रिकर मुख्यमंत्री हैं, सरकार को उनकी पार्टी का समर्थन जारी रहेगा. Also Read - Punjab Polls: पूर्व सीएम अमरिंदर सिंह ने पंजाब में नई सरकार बनाने का बताया फॉर्मूला, BJP से गठबंधन पर कही यह बात

उन्होंने कहा, ‘‘पर्रिकर एक चिकित्सीय दशा से लड़ रहे हैं. वह हमेशा से एक विजेता रहे हैं. वह जल्द ही गोवा लौट आएंगे.’’ कल शुरू हुए प्रदेश विधानसभा के बजट सत्र के दौरान भाजपा विधायकों ने भी पर्रिकर के स्वास्थ्य में तेजी से सुधार की कामना की.