नई दिल्ली: कभी बीजेपी के साथ एनडीए (NDA) की भागीदार रही महाराष्‍ट्र (MAHARASHTRA) में सत्‍तारूढ़ शिवसेना (Shiv Sena) पार्टी राज्‍य में कांग्रेस के साथ सरकार रही है और बदले सियासी हालात में उसे राष्‍ट्रीय स्‍तर पर किसी गठबंधन (Alliance) का हिस्‍सा बनना काफी अहम होगा. शिवसेना के संभावित गठबंधन को लेकर चल रही सियासी कयासों के बीच आज मंगलवार को आज जब पार्टी वरिष्ठ नेता संजय राउत ने कांग्रेस (Congress)  के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी (Rahul Gandhi) से मुलाकात की तो राजनीतिक सुर्खियों को और बल मिला. इस मीटिंग के बाद जब संजय राउत से संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (UPA) में शिवसेना के शामिल होने को लेकर सवाल किया गया तो उन्‍होंने कहा, मैं उद्धव ठाकरे जी से बात करूंगा और फिर इस बारे में बताऊंगा. बता दें कि महाराष्‍ट्र में कांग्रेस, एनसीपी, और शिवसेना तीन मिलकर महाविकास अघाड़ी (MVA) नाम के गठबंधन से सरकार में शामिल हैं.Also Read - Punjab Elections 2022: कांग्रेस ने पंजाब के लिए 23 उम्‍मीदवारों का किया ऐलान, देखें List

Also Read - UP Election 2022: BJP ने यूपी चुनाव के लिए 8 और नामों का किया ऐलान, देखें List

शिवसेना नेता राउत ने कहा, हमने पहले ही कहा है कि अगर विपक्ष का कोई मोर्चा बनता है तो वह कांग्रेस के बिना संभव नहीं है. इस बारे में चर्चा हुई है. राहुल गांधी से मुलाक़ात के बाद शिवसेना नेता संजय राउत ने कहा, राजनीति पर राहुल गांधी के साथ लंबी चर्चा हुई. एकजुट होकर विपक्ष को किस प्रकार आगे रखना है और अगर विपक्ष का कोई एक फ्रंट बनेगा तो वो कांग्रेस के बिना संभव नहीं है इसपर भी चर्चा हुई. Also Read - Maharashtra: नासिक में ऑनलाइन क्लास के लिए मोबाइल नहीं होने पर 11वीं की छात्रा ने की खुदकुशी

राहुल गांधी के 12-तुगलक लेन स्थित आवास पर उनसे मुलाकात के बाद राज्यसभा सदस्य राउत ने कहा कि देश में विपक्ष का एक ही मोर्चा होना चाहिए. कांग्रेस के बिना कोई भी विपक्षी गठबंधन नहीं बन सकता. यह भी कहा कि विपक्षी दलों को साथ लाने के लिए राहुल गांधी को आगे आकर काम करना चाहिए.

विपक्ष का एक ही मोर्चा होना चाहिए
शिवसेना नेता संजय राउत ने मंगलवार को कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी से मुलाकात की और कहा कि देश में विपक्ष का एक ही मोर्चा होना चाहिए. कांग्रेस के बिना कोई भी विपक्षी गठबंधन नहीं बन सकता. उन्होंने जोर देकर कहा, कांग्रेस के सिवाय एकजुटता नहीं हो सकती. विपक्ष का एक ही मोर्चा होना चाहिए. नेता के बारे में बैठकर चर्चा कर लीजिए. लेकिन तीन-चार मोर्चे नहीं हो सकते.

राहुल गांधी मुंबई के दौरे में उद्धव ठाकरे मुलाकात कर सकते हैं
राउत ने यह भी बताया कि राहुल गांधी आने वाले समय में मुंबई का दौरा करेंगे और अगर महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री कामकाज कर रहे होंगे तो दोनों की मुलाकात भी हो सकती है. ठाकरे इन दिनों रीढ़ की हड्डी से जुड़ी सर्जरी कराने के बाद स्वास्थ्य लाभ ले रहे हैं.

ममता बनर्जी कांग्रेस के बिना गठबंधन पर विचार कर रही हैं
बता दें कि शिवसेना सांसद संजय राउत ने बीते रविवार को दावा किया कि पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी कांग्रेस के बिना गठबंधन पर विचार कर रही हैं. राउत ने शिवसेना के मुखपत्र सामना में अपने साप्ताहिक स्तंभ ‘रोखठोक’ में यह भी दावा किया कि बनर्जी ने कहा है कि उनकी पार्टी तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) महाराष्ट्र में सियासी आजमाइश नहीं करेगी.

टीएमसी ने कहा था कांग्रेस डीप फ्रीजर’ में चली गई है
दरसअल, टीएमसी नेतृत्व ने शनिवार को कहा था कि वह एक वैकल्पिक मोर्चा बनाना जारी रखेगी क्योंकि कांग्रेस बीजेपी के खिलाफ “लड़ाई का नेतृत्व करने में विफल” रही है। बनर्जी ने अपनी हालिया मुंबई यात्रा के दौरान कहा था कि “अब कोई संप्रग (यूपीए) नहीं है. बीते शुक्रवार को टीएमसी के मुखपत्र ‘जागो बांग्ला’ में कांग्रेस पर नये सिरे से हमला करते हुए कहा गया था कि वह ‘डीप फ्रीजर’ में चली गई है.

टीएमसी का दावा, ममता बनर्जी विपक्ष के चेहरे के रूप में उभरी हैं
हाल में ‘जागो बांग्ला’ में यह भी दावा किया गया था कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ कांग्रेस नेता राहुल गांधी नहीं, बल्कि ममता बनर्जी विपक्ष के चेहरे के रूप में उभरी हैं.

आदित्य ठाकरे से ममता बनर्जी की मुंबई में मुलाकात हुई थी
महाराष्ट्र में राकांपा और कांग्रेस के साथ सत्ता साझा करने वाली शिवसेना के सांसद ने रविवार को दावा किया था कि “ऐसा लगता है कि बनर्जी कांग्रेस को बाहर रखकर कुछ नया करने पर विचार कर रही हैं. उन्होंने यह भी दावा किया था कि कुछ दिन पहले यहां शिवसेना नेता संजय एवं राज्य मंत्री आदित्य ठाकरे से मुलाकात के दौरान बनर्जी ने कहा था कि “हम यहां नहीं आएंगे क्योंकि शिवसेना और राकांपा मजबूत हैं.”

ममता बनर्जी ने ठाकरे को कोलकाता अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के लिए भी आमंत्रित किया था
राज्यसभा सांसद संजय राउत ने कहा था कि टीएमसी पड़ोसी राज्य गोवा में आगामी विधानसभा चुनाव लड़ने जा रही है और त्रिपुरा और मेघालय के उत्तर-पूर्वी राज्यों में भी अपने पैर पसार रही है. उन्होंने कहा था कि अपनी मुंबई यात्रा के दौरान ममता बनर्जी ने आदित्य ठाकरे के साथ दोनों राज्यों के बीच पर्यटन और संस्कृति के आदान-प्रदान पर चर्चा की थी. उन्होंने ठाकरे को आगामी कोलकाता अंतरराष्ट्रीय फिल्म महोत्सव के लिए भी आमंत्रित किया. सामना ने शनिवार को कहा कि कांग्रेस को राष्ट्रीय राजनीति से दूर रखना और इसके बिना संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन (संप्रग) के समानांतर विपक्षी गठबंधन बनाना सत्तारूढ़ भाजपा और “फासीवादी” ताकतों को मजबूत करने के समान है.