नई दिल्ली: विंग कमांडर अभिनंदन ने मंगलवार को वायु सेना दिवस के मौके पर गाजियाबाद स्थित हिंडन एयर बेस में एयर शो के दौरान लड़ाकू विमान मिग-21 उड़ाया. एयर शो में बालाकोट पर हमला करने वाले अन्य लड़ाकू विमानों ने भी हवा में करतब दिखाए. जहां अभिनंदन ने एवेंजर फॉर्मेशन में तीन मिग-21 विमानों की अगुआई की, वहीं बालाकोट के नायक – ग्रुप कैप्टेन सौमित्र तमास्कर ने जैगुआर और हेमंत कुमार ने मिराज 2000 उड़ाया.Also Read - Air Force Day 2019: भारतीय वायुसेना का 87वां स्थापना दिवस, सेना ने दिखाया दम, किए हैरतअंगेज करतब

Also Read - विंग कमांडर अभिनंदन को स्वतंत्रता दिवस के मौके पर मिल सकता है सेना का यह बड़ा सम्मान

Also Read - पाकिस्तान को जवाब देने से मुंह चुराती थी UPA सरकार, पीएम मोदी ने बदला सिलसिला: केंद्रीय मंत्री

अभिनंदन ने मिग-21 से जब हवा में करतब दिखाया तो दर्शकों ने तेज स्वरों में अपनी खुशी जाहिर की. 87वें वायु सेना दिवस के मौके पर सेना में हाल ही में शामिल किए गए अपाचे हैलीकॉप्टर और ट्विन रोटर ब्लेड चिनूक के अलावा कई अन्य विमानों ने हवाई करतब दिखाए. एयर शो के दौरान पूर्व भारतीय क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर भी उपस्थित रहे.

इस मौके पर पीएम मोदी ने ट्वीट कर भारतीय वायु सेना की शान में लिखा, “आज वायु सेना दिवस पर एक गर्वित राष्ट्र हमारे वायु योद्धाओं और उनके परिवारों के प्रति आभार व्यक्त करता है. भारतीय वायु सेना निरंतर समर्पण और उत्कृष्टता के साथ भारत की सेवा करती है”.

इस मौके पर रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह बोर्डो के पास मरिग्नैक एयरबेस में मंगलवार को वायु सेना के लिए पहला राफेल लड़ाकू विमान प्राप्त करेंगे. रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह विजयादशमी के शुभ अवसर पर मंगलवार को फ्रांस की राजधानी पेरिस में भारतीय परंपरा के अनुसार शस्त्र पूजा करेंगे. विधिवत शस्त्र पूजा के बाद रक्षामंत्री फ्रांस की कंपनी दसॉ से खरीदे गए लड़ाकू विमान राफेल का अधिग्रहण करेंगे और विमान में उड़ान भी भरेंगे. राफेल उन्नत प्रौद्योगिकी से लैस लड़ाकू विमान है. दसॉ के साथ हुए सौदे की पहली खेप में भारत विजयादशमी के मौके पर 36 राफेल विमान हासिल करेगा.

Air Force Day 2019: भारतीय वायुसेना का 87वां स्थापना दिवस, सेना ने दिखाया दम, किए हैरतअंगेज करतब

भारतीय वायुसेना (इंडियन एयरफोर्स) भारतीय सशस्त्र सेना का एक अंग है जो वायु युद्ध, वायु सुरक्षा, एवं वायु चौकसी का महत्वपूर्ण काम देश के लिए करती है. भारतीय वायु सेना के सभी खतरों से भारतीय हवाई क्षेत्र की रक्षा करना, सशस्त्र बलों की अन्य शाखाओं के साथ संयोजन के रूप में भारतीय क्षेत्र और राष्ट्रीय हितों की सुरक्षा प्राथमिक उद्देश्य है.