नई दिल्ली. भारतीय वायुसेना के जांबाज पायलट अभिनंदन वर्धमान इन दिनों मेडिकल लीव पर हैं. आम तौर पर सेहत को लेकर मिलने वाली छुट्टी के दौरान हमने लोगों को घर पर आराम करते हुए सुना है. लेकिन भारतीय वायुसेना का यह जांबाज पायलट, मेडिकल लीव के दौरान भी अपने कार्यस्थल पर ही रहना चाहता है. जी हां, अपने हैरतअंगेज कारनामे से पाकिस्तानी एयरफोर्स के एफ-16 विमान को मार गिराने वाला यह बहादुर जवान मेडिकल लीव पर घर जाने के बजाय श्रीनगर स्थित अपने स्क्वाड्रन में लौट आया है. पायलट अभिनंदन को पिछले महीने पाकिस्तान में उस वक्त पकड़ लिया गया था, जब वह एफ-16 विमान को मार गिराने के बाद पाकिस्तान अधिकृत कश्मीर में गिर गए थे. इसके बाद पाकिस्तान सेना ने उन्हें पकड़ लिया था.

भारत के कूटनीतिक दबाव और दुनियाभर में किरकिरी के बाद पाकिस्तान ने दो दिन बाद ही पायलट अभिनंदन को भारत को सौंप दिया था. मंगलवार को आधिकारिक सूत्रों ने जानकारी दी कि विंग कमांडर अभिनंदन वर्धमान श्रीनगर में अपने स्क्वाड्रन में वापस चले गए हैं. हालांकि, वह स्वास्थ्य आधार पर चार हफ्ते के अवकाश पर हैं. उन्होंने कहा कि वर्धमान ने अवकाश अवधि के दौरान चेन्नई स्थित अपने घर जाने की बजाय श्रीनगर में अपने स्क्वाड्रन में रुकने का फैसला किया. भारतीय वायुसेना के पायलट अभिनंदन करीब 12 दिनों पहले उस वक्त अवकाश पर गए थे, जब सुरक्षा एजेंसियों ने पाकिस्तान से उनकी वापसी के बाद उनसे पूरे वाकये की जानकारी लेने (डीब्रीफिंग) की दो हफ्ते लंबी कवायद पूरी की थी.

IAF पायलट अभिनंदन की बहादुरी का कायल हुआ पाकिस्तान, चश्मदीद ने बयां की पूरी कहानी

IAF पायलट अभिनंदन की बहादुरी का कायल हुआ पाकिस्तान, चश्मदीद ने बयां की पूरी कहानी

सूत्रों ने बताया कि वर्धमान अपने माता-पिता के साथ वक्त बिताने के लिए चेन्नई स्थित अपने घर जा सकते थे, लेकिन उन्होंने श्रीनगर जाना पसंद किया जहां उनका स्क्वाड्रन है. स्वास्थ्य आधार पर लिए गए चार हफ्ते के अवकाश के खत्म होने के बाद एक मेडिकल बोर्ड अभिनंदन की फिटनेस की समीक्षा करेगा, ताकि वायुसेना के शीर्ष अधिकारी यह तय कर सकें कि क्या वह फिर से लड़ाकू पायलट की भूमिका में आ सकते हैं. अभिनंदन ने लड़ाकू विमान उड़ाने की अपनी ड्यूटी में वापसी की इच्छा जताई है.

बीते 27 फरवरी को भारतीय हवाई क्षेत्र का उल्लंघन करने वाले पाकिस्तानी लड़ाकू विमानों को खदेड़ने के दौरान हवा में हुई लड़ाई के दौरान उनका मिग-21 विमान गिर गया था, जिसके बाद पाकिस्तानी सेना ने उन्हें पकड़ लिया था. इससे पहले वर्धमान ने पाकिस्तान के एफ-16 विमान को मार गिराया था. पाकिस्तान ने विंग कमांडर को एक मार्च की रात को रिहा किया था.