Winter Session: संसद के मौजूदा शीतकालीन सत्र के पहले सप्ताह में उच्च सदन के लिए निर्धारित समय का 52.30 प्रतिशत हंगामे और मजबूरन कार्यवाही स्थगित करने की वजह से बर्बाद हो गया. यह जानकारी राज्यसभा सचिवालय ने दी है. अधिकारियों ने बताया कि संसद के उच्च सदन की उत्पादकता पिछले सप्ताह कुल निर्धारित समय का मात्र 47.70 प्रतिशत रहा. उन्होंने बताया कि सदन में गुरुवार को निर्धारित समय से 33 मिनट अधिक कार्यवाही हुई और इसकी वजह से सत्र के पहले सप्ताह में पहली बार कुल उत्पादकता में सुधार हुआ और निर्धारित समय के 49.70 प्रतिशत हिस्से में कार्य हुआ.Also Read - Assembly Elections 2022: चुनाव के ऐलान के बाद UP में भाजपा के कार्यकर्ताओं से आज पहली बार बात करेंगे PM मोदी

राज्यसभा सचिवालय द्वारा जारी विज्ञप्ति में बताया गया कि सबसे बेहतर उत्पादकता शुक्रवार को रही जब सदन में निर्धारित समय के अनुसार 100 प्रतिशत कार्य हुआ, जबकि इससे पहले दिन 95 प्रतिशत समय में कार्यावाही हुई थी जो सदन में सामन्य कार्यवाही बहाल होने का संकेत है. विज्ञप्ति के मुताबिक शुक्रवार को निजी विधेयक पेश करने के लिए निर्धारित पूरे ढाई घंटे पूरा काम हुआ. यह उपलब्धि एक साल, नौ महीने और 24 दिनों बाद या 66 बैठकों के बाद हासिल हुई. अधिकारियों ने बताया कि पिछली बार सात फरवरी 2020 को बजट सत्र के दौरान यह मुकाम हासिल हुआ था जो सदन का 251वां सत्र है. Also Read - PM मोदी आज WEF के दावोस एजेंडा में 'स्टेट ऑफ द वर्ल्ड' को करेंगे संबोधित

(इनपुट: भाषा) Also Read - PM Modi interact With startups: पीएम मोदी आज 150 से ज्यादा स्टार्टअप कारोबारियों से संवाद करेंगे