तुमकुरु (कर्नाटक): कर्नाटक के तुमकुर जिले के चिक्कनायकनहल्ली तालुक के कोरागेरे गांव से उच्च जाति समुदाय द्वारा अंतर्जातीय विवाहित जोड़े (कपल) का बहिष्कार किए जाने की एक घटना सामने आई है. इस जोड़े की शादी को 14 साल हो चुके हैं. इस संबंध में परेशान दंपत्ति नागराजू और शशिकला ने तुमकुर जिले के पुलिस अधीक्षक राहुल कुमार शाहपुरवाड़ को शिकायत दी है. शशिकला ने कहा, उन्होंने हमें आश्वासन दिया है कि वह गांव का दौरा करेंगे और दो दिनों में समस्या का समाधान करेंगे.Also Read - Bihar: प्रेमिका से मिलने 17 किमी साइकिल चलाकर प्रेमी आता था, गांववालों ने मंदिर में करा दी शादी

कोरागेरे गांव निवासी सताए गए जोड़े नागराजू और शशिकला ने 2007 में प्यार में पड़ने के बाद अपने परिवारों की इच्छा के खिलाफ शादी कर ली थी. नागराजू निचली जाति से संबंध रखते हैं. शादी के बाद दोनों एक ही गांव में रहते थे. पति और पत्नी दोनों मजदूरी का काम करते हैं और अपनी कृषि भूमि के छोटे से हिस्से में फसल उगाते हैं. वर्षों की मेहनत के बाद, उन्होंने एक घर बनाया और अपनी कृषि भूमि को विकसित करने में कामयाब रहे. Also Read - Love Story in Bihar: साइकिल चलाकर प्रेमिका से मिलने उसके गांव जाता था प्रेमी, लोगों ने देखा तो मंदिर में करा दी शादी

उच्च जाति समुदाय के कुछ लोग जो यह नहीं देख सकते थे कि उनके समुदाय की महिला पिछड़ी जाति के पति के साथ रह रही है, उन्हें परेशान करना शुरू कर दिया. समूह ने नागराजू के साथ झगड़ा किया और बिना किसी कारण के उसके साथ मारपीट की. ग्रामीणों ने दंपति का एक सप्ताह तक बहिष्कार भी किया है. Also Read - भाई को छोटी 'बहन' से हुआ प्यार, दोनों करना चाहते थे शादी, लेकिन फिर...

पीड़िता शशिकला ने बताया कि हालांकि उन्होंने इस संबंध में हुलियार, चिक्कनायकनहल्ली और तिप्तूर पुलिस थानों से संपर्क करने की कोशिश की थी, लेकिन कोई नतीजा नहीं निकला. उन्होंने कहा, हमारी अंतर्जातीय शादी है. हमारे दो बेटे हैं और हम दूसरों को परेशान किए बिना अपना जीवन व्यतीत कर रहे हैं. अगर हमारा बहिष्कार किया गया तो हम कैसे रह सकते हैं? जिला प्रशासन को हमारी मदद के लिए आगे आना चाहिए. नागराजू ने कहा कि वह 14 साल तक गांव में शांति से रहे हैं. उन्होंने कहा कि ग्रामीणों ने अचानक उन्हें बिना वजह परेशान करना करना शुरू कर दिया है.