Also Read - Weather Update: दिल्‍ली-NCR में आज भी हो रही जमकर बारिश, सड़कों पर पानी भरा, कई मार्ग बंद

Also Read - महिलाओं की सुरक्षा के लिए रेलवे के दिशा-निर्देश: स्टेशनों पर फ्री WiFi से पोर्न डाउनलोड करने से रोकें

गुड़गांव: गुड़गांव में जल्द ही केवल महिलाओं के लिए कैब की सोच हकीकत बन जाएगी। अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर रविवार को उपायुक्त टीएल सत्यप्रकाश ने निजी कंपनियों के साथ गुड़गांव में महिलाओं के लिए सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए एक सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए। एक सहमतिपत्र पर केवल महिला कैब के संचालन के लिए और दूसरे पर एक मोबाइल सुरक्षा एप्लीकेशन लांच करने के लिए हस्ताक्षर किए गए। तीसरे पहले के तहत गुड़गांव यूथ वॉलंटियर के नए दस्ते का गठन किया गया, जिसके तहत नर्सिग की छात्र मातृत्व वार्ड में सेवा देंगी। Also Read - Residential real estate India: साल 2020 में घरों की बिक्री में आई 37 फीसदी की गिरावट, दिल्ली-एनसीआर में 50 फीसदी घटी: रिपोर्ट

महिला कैब के लिए मारुति सुजुकी के एनसीआर के लिए क्षेत्रीय प्रबंधक मनु इंदरजीत सिंह, इको रेंट-ए-कार के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राजेश लूंबा और माइंड योर फ्लीट डॉट कॉम के सह-संस्थापक मलविंदर सिंह के साथ सहमति पत्र पर हस्ताक्षर किए गए। इसके तहत 50 महिला चालकों को मारुति सुजुकी द्वारा संचालित इंस्टीट्यूट फॉर ड्राइविंग एंड ट्रैफिक रिसर्च में प्रशिक्षण दिया जाएगा। जिला प्रशासन महिला चालकों को लाइसेंस लेने में मदद करेगा और कैब कंपनियां उन्हें रोजगार देंगी।

महिलाओं की सुरक्षा के लिए मोबाइल एसओएस एप का विकास गुड़गांव की कंपनी जारविज ने किया है। जारविज के बिक्री एवं विपणन प्रमुख नवीन चौधरी ने कहा कि स्मार्टफोन में मौजूद एक सॉफ्टवेयर की मदद से जीपीएस के जरिए आपात स्थिति में महिला की भौगोलिक स्थिति की जानकारी मिलेगी। महिला भले ही मोबाइल फोन नहीं निकाल पाए, लेकिन आपात स्थिति में पहले से तय तरीके से एसएमएस और ईएमल से चेतावनी जारी हो जाएगी। एप के माध्यम से जैसे ही महिलाकमी घर पहुंचती है, खुद-ब-खुद एक सूचना उसके कार्यालय पहुंच जाती है।