नई दिल्ली: विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के प्रमुख ट्रेडोस अदनोम ग्रेब्रियेसस ने गुरुवार को 21 दिनों के लॉकडाउन के दौरान समाज के गरीब व कमजोर लोगों की मदद करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की प्रशंसा की. ट्रेडोस ने एक ट्वीट में कहा कि वह ऐसे कठिन समय में जरूरतमंदों की मदद करने के लिए पीएम मोदी के 1.70 लाख करोड़ रुपए के प्रधानमंत्री गरीब कल्याण पैकेज की सराहना करते हैं. Also Read - CBSE Class X, XII Result 2020: इस आधार पर छात्रों को दिए जाएंगे मार्क्स, जानें रिजल्ट से जुड़ी बड़ी बातें

डब्ल्यूएचओ के प्रमुख ने ट्वीट किया- प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) द्वारा कोविड-19 संकट के दौरान भारत की कमजोर आबादी को राहत देने के लिए घोषित 24 अरब डॉलर के पैकेज में सराहना करता हूं. उन्होंने इस राहत में शामिल चीजों का भी जिक्र किया और कहा, इसमें 80 करोड़ वंचित लोगों के लिए मुफ्त भोजन का राशन, 20.4 करोड़ गरीब महिलाओं को नकद हस्तांतरण, आठ करोड़ घरों के लिए मुफ्त खाना पकाने की गैस शामिल है. वित्त मंत्री ने 26 मार्च को कोरोनावायरस लॉकडाउन के प्रभाव से निपटने के लिए आर्थिक प्रोत्साहन की घोषणा की थी. Also Read - देश में आर्थिक संकट पर शरद पवार बोले- भारत को इस समय एक मनमोहन सिंह की जरूरत

विश्व स्वास्थ्य निकाय के प्रमुख ने कहा, विभिन्न देश कोविड-19 के प्रसार को सीमित करने के लिए लोगों को उनके घरों में रहने और बड़ी संख्या में एकत्रित नहीं होने को कह रहे हैं. इन कदमों के परिणाम गरीब और सबसे कमजोर वर्ग के तबकों के लिए अनपेक्षित हो सकते हैं. मैं इस संकट के दौरान आबादी को भोजन और जीवन के लिए जरूरी चीजों को अनिवार्य रूप से सुनिश्चित करने के लिए देशों से आह्वान करता हूं. Also Read - Weekends Lockdown in Uttar Pradesh: यूपी में हर हफ्ते 55 घंटे के लॉकडाउन में होंगे ये काम, आप क्या करें, क्या नहीं, जानें

भारत सरकार इस सप्ताह और आने वाले हफ्तों में प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना के तहत 27,500 करोड़ रुपये के वित्तीय पैकेज को वितरित करने के लिए तैयार है. बता दें कि देश में कोरोना का कहर बढ़ रहा है. अब तक देश में कोरोना मरीजों की संख्या 2 हज़ार पार पहुंच गई है. जबकि 50 से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है. कोरोना ने पूरी दुनिया में भयंकर हाहाकार मचाया है.  अब तक 50 हज़ार से अधिक लोगों की मौत हो चुकी है, जबकि 10 लाख के करीब संक्रमित हो चुके हैं. अमेरिका में भी कोरोना ने भारी तबाही मचाई है.