पटना. बीजेपी के वरिष्ठ नेता और पूर्व वित्तमंत्री यशवंत सिन्हा ने शनिवार को पार्टी पॉलिटिक्स से सन्यास ले लिया. उन्होंने कहा, मैं किसी तरह की पॉलिटिक्स पार्टी से आज सन्यास लेता हूं. मैं आज बीजेपी से सारे रिश्ते खत्म करता हूं. बता दें कि यशवंत सिन्हा मोदी सरकार से लगातार नाराज हैं. उन्होंने हाल ही में एक ऑर्टिकल लिखकर बीजेपी सरकार पर निशाना साधा था.

उन्होंने कहा, आज लोकतंत्र खतरे में है. मैं पार्टी पॉलिटिक्स से सन्यास ले रहा हूं, लेकिन आज भी मेरा दिल देश के लिए धड़कता है. आज जो हो रहा है उसके खिलाफ नहीं खड़े होते तो आने वाली पीढ़ियां हमें माफ नहीं करतीं. बता दें कि यशवंत सिन्हा दो बार देश के वित्त मंत्री रह चुके हैं. पहली बार 1990-91 में चंद्रशेखर की सरकार में और दूसरी बार 1998 में अटल बिहारी वाजपेयी की सरकार.

हाल ही में अंग्रेजी अखबार इंडियन एक्सप्रेस में ‘Dear friend Speak up’ टाइटल से एक ऑर्टिकल लिखा है. इसमें उन्होंने सांसदों से मोदी सरकार की नीतियों के खिलाफ आवाज उठाने की अपील की है. वहीं, 5 बगावती दलित सांसद की तारीफ करते हुए सरकार की कई नीतियों की आलोचना की है. उन्होंने पार्टी के मूल्यों को बचाने के लिए आडवाणी और जोशी से स्टैंड लेने की भी अपील की है.