श्रीनगर: जम्मू-कश्मीर में बदले सियासी हालात, पीडीपी-बीजेपी की गठबंधन खत्म होने के बाद राज्य में लागू प्रेसिडेंट रूल के बीच भाजपा से नाराज चल रहे पूर्व केंद्रीय मंत्री सीनियर नेता यशवंत सिन्हा ने शुक्रवार को नेशनल कांफ्रेंस के उपाध्यक्ष उमर अब्दुल्ला से मुलाकात की और जम्मू कश्मीर की वर्तमान स्थिति पर चर्चा की.Also Read - कश्मीर में तैनात CRPF के सहायक कमांडर ने की आत्महत्या, बताया गया ये कारण

बता दें कि जम्मू कश्मीर में भाजपा के अपने गठबंधन सहयोग पीडीपी से समर्थन वापस लेने और महबूबा मुफ्ती के मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा देने के अगले दिन बुधवार को राज्यपाल शासन लगा दिया गया था. Also Read - जानिए आखिर क्या है संविधान की धारा 370 और अनुच्छेद 35 ए, कश्मीर पर क्या पड़ेगा असर

नेशनल काफ्रेंस के प्रवक्ता ने बताया कि सिन्हा ने यहां पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के निवास पर उनसे भेंट की. सिन्हा ने उमर अब्दुल्ला के साथ राज्य की वर्तमान स्थिति और राजनीतिक घटनाक्रम पर चर्चा की. Also Read - जम्मू-कश्मीर में धारा 144 लागू, लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध, रैली और सभाओं पर भी रोक

प्रवक्ता के अनुसार सिन्हा ने कहा कि राज्य में शांति और शासन की लोकतांत्रिक एवं प्रतिनिधि वाली प्रणाली की बहाली बड़े महत्व की बात है. अब्दुला ने सिन्हा से कहा कि राज्य में सामान्य स्थिति की बहाली तथा लोगों को राहत प्रदान करना उनकी पार्टी के लिए सबसे बड़ी चिंता है. (इनपुट- एजेंसी)