श्रीनगर: अलगाववादी संगठन जम्मू कश्मीर लिबरेशन फ्रंट के नेता मोहम्मद यासीन मलिक को यहां उसके आवास से हिरासत में लिया गया वहीं हुर्रियत कांफ्रेंस के उदारवादी धड़े के नेता मीरवाइज उमर फारूख को नजरबंद किया गया. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि शुक्रवार एक युवक की सीआरपीएफ के वाहन से कथित तौर पर टकराने से मौत हो गई थी और इस घटना के विरोध में रैली निकालने से रोकने के लिए ऐहतियात के तौर पर अलगाववादी नेताओं को हिरासत में लिया गया है. मलिक को मैसूमा स्थित उसके आवास से हिरासत में ले कर कोठी बाग पुलिस थाने ले जाया गया वहीं मीरवाइज को उसके आवास में नजरबंद किया गया है.

प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच संघर्ष
हुर्रियत कांफ्रेंस के कट्टरपंथी धड़े के नेता सैयद अली शाह गिलानी नजर बंद चल रहे हैं. तीनों नेताओं ने कैसर भट (21) की मौत के विरोध में शनिवार को घाटी में बंद का आह्ववान किया था. श्रीनगर के नौहट्टा में जामिया मस्जिद में जुमे की नमाज के बाद झड़पें हुई थी. प्रदर्शनकारियों ने सीआरपीएफ के एक वाहन पर हमला किया था और इस दौरान भट और एक अन्य युवक वाहन से टकरा गए थे. दोनों को अस्पताल ले जाया गया जहां भट की मौत हो गई थी. युवक के अंतिम संस्कार के दौरान प्रदर्शनकारियों और सुरक्षा बलों के बीच संघर्ष हुआ.

प्रदर्शनकारी मामूली रूप से जख्मी
नगर के फतेह कडल इलाके में कैसर भट (21) के अंतिम संस्कार में सैकड़ों लोगों ने हिस्सा लिया. आरोप है कि नौहट्टा इलाके में शुक्रवार को प्रदर्शन के दौरान केंद्रीय रिजर्व पुलिस बल (सीआरपीएफ) के वाहन की चपेट में भट और एक अन्य युवक आ गया था. भट की यहां के एसकेआईएमएस अस्पताल में मौत हो गई. पुलिस के एक अधिकारी ने बताया कि ईदगाह में भट के अंतिम संस्कार के दौरान सुरक्षा बलों ने फतेह कडल में जुलूस को रोकने का प्रयास किया जिससे संघर्ष हुआ. अधिकारी ने बताया कि कुछ प्रदर्शनकारी मामूली रूप से जख्मी हो गए.

उमर अब्दुल्ला ने सुरक्षा बलों की आलोचना की
मध्य रात्रि के करीब कैसर भट (21) की मौत के बाद अधिकारियों ने श्रीनगर के कुछ इलाकों में निषेधाज्ञा लगाई थी लेकिन अंतिम संस्कार में सैकड़ों लोग इकट्टा हो गए. बाद में ईदगाह में भट का उसका अंतिम संस्कार हुआ. युवक की मौत के बाद अलगाववादियों ने कश्मीर में आज बंद का आह्वान किया था जिसके बाद दुकानदारों एवं व्यवसायियों ने अपने प्रतिष्ठान बंद रखे.

जम्मू-कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने सुरक्षा बलों की आलोचना करते हुए ट्वीट किया कि वे अब ‘अपनी जीप प्रदर्शनकारियों के ऊपर चला रहे हैं.’ केंद्रीय मंत्री जितेन्द्र सिंह ने इस पर तीखी प्रतिक्रिया जताते हुए संवाददाताओं से कहा कि कुछ नेता सुरक्षा बलों को आसानी से निशाना बनाते हैं और उन्होंने अब्दुल्ला की निंदा की.