बेंगलुरु: कर्नाटक के मुख्यमंत्री बीएस येदियुरप्पा ने शुक्रवार को कहा कि ‘प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना’ के तहत सरकार लाभार्थियों को चार हजार रुपये की अतिरिक्त राशि प्रदान करेगी. इस योजना के तहत छह हजार रुपये प्रदान किए जा रहे हैं. इसके अलावा उन्होंने बुनकरों के कर्ज माफ करने का भी ऐलान किया. यह रकम फिलहाल 100 करोड़ रुपये है. Also Read - Karnataka के Chikkaballapur में ब्‍लास्‍ट से 6 लोगों की मौत, PM Modi ने जताया दुख

Also Read - Covid-19 Updates: कोरोना के तेजी से बढ़े मामले तो कर्नाटक ने केरल के साथ लगी सीमाएं फिर कीं बंद, लोगों की बढ़ी मुश्किलें

  Also Read - PM Kisan Samman Nidhi Scheme: सावधान! 33 लाख किसान मिले हैं फर्जी, तुरंत वापस कर दें पैसे, वरना...

कैबिनेट बैठक के बाद यहां पत्रकारों से उन्होंने कहा कि दो महत्वपूर्ण फैसले लिए गए हैं. इनमें पहला है ‘किसान सम्मान योजना’ के लाभार्थियों को दो किस्तों में चार हजार रुपये की अतिरिक्त राशि प्रदान करना. दूसरा फैसला है, बुनकरों के करीब 100 करोड़ रुपये के कर्ज की माफी. येदियुरप्पा ने कहा कि किसान पुत्र होने के नाते सूखे से जूझ रहे किसानों की मदद करना उनकी प्रतिबद्धता में शामिल है. पिछली सरकार द्वारा शुरू की गई फसल कर्ज माफी योजना को लेकर येदियुरप्पा ने कहा कि वह समीक्षा के बाद इस पर फैसला लेंगे.

14 महीने बाद चौथी बार सत्ता में लौटे राजनीति के बाजीगर हैं बीएस येदियुरप्पा

उन्होंने कहा कि सरकार विपक्षी कांग्रेस और जद(एस) के साथ बदले की भावना के साथ कोई कार्रवाई नहीं करेगी. उनके इस बयान को विपक्षी दलों (कांग्रेस-जदएस) के साथ सौहार्द्रपूर्ण रिश्तों की शुरुआत के तौर पर देखा जा रहा है जो पहले भाजपा पर अपनी सरकार को अस्थिर करने के लिए खरीद फरोख्त का आरोप लगा रहे थे.

कर्नाटक में फिर से बीजेपी सरकार, येदियुरप्पा चौथी बार बने मुख्यमंत्री

उन्होंने कहा कि मैं कर्नाटक की जनता और विपक्षी दलों को आश्वस्त करता हूँ कि किसी भी परिस्थिति में प्रतिशोध की राजनीति को बढ़ावा नहीं दूंगा. येदियुरप्पा ने कहा कि भले ही कोई मुझमें दोष निकाले, मैं मानवीय व्यवहार करुंगा. मैं ‘भूल जाओ और माफ करो’ की नीति में विश्वास करता हूं. उन्होंने आरोप लगाया कि राज्य में 14 माह से प्रशासनिक ठहराव की स्थिति थी और अगले तीन से चार माह में लोग बदलाव को खुद महसूस करेंगे. (इनपुट एजेंसी)