नई दिल्ली: सीबीआई Central Bureau of Investigation ने सोमवार को घोटालों से ग्रसित डीएचएफएल द्वारा यस बैंक Yes bank के सह-संस्थापक राणा कपूर Rana Kapoor के परिवार को कथित रूप से 600 करोड़ रुपए की रिश्वत देने के मामले में सात स्थानों पर छापे मारे. Also Read - कंटेनमेंट जोन घोषित किया गया मुंबई का ये अस्पताल, 26 नर्स और 3 डॉक्टर्स पाए गए थे कोरोना पॉजिटिव

CBI के अधिकारियों ने बताया कि सीबीआई अधिकारियों के दल मुंबई में आरोपियों के आवास और आधिकारिक परिसरों में तलाशी ले रहे हैं. Also Read - महाराष्‍ट्र में COVID19 के 72 नए केस के साथ संक्रमितों का आंकड़ा 302

CBI के अधिकारियों ने बताया कि एजेंसी का आरोप है कि कपूर ने डीएचएफएल के प्रवर्तक कपिल वाधवन के साथ आपराधिक षड्यंत्र कर यस बैंक के माध्यम से डीएचएफएल को वित्तीय सहायता मुहैया कराई और उसके बदले राणा के परिवार के सदस्यों को अनुचित लाभ मिला. Also Read - 26/11 आतंकी हमले पर आधारित State Of Siege की खूब हो रही तारीफ, 9.7 की मिली रेटिंग

सीबीआई (CBI) की प्राथमिकी के अनुसार घोटाला अप्रैल और जून, 2018 के बीच शुरू हुआ, जब यस बैंक ने दीवान हाउसिंग फाइनेंस कॉरपोरेशन लिमिटेड (डीएचएफएल) के अल्पकालिक ऋण पत्रों में 3,700 करोड़ रुपये का निवेश किया था.

सीबीआई ने कहा कि इसके बदले वाधवन ने कथित रूप से कपूर और उनके परिवार के सदस्यों को 600 करोड़ रुपये का फायदा पहुंचाया. उन्होंने कहा कि यह लाभ डीओआईटी अर्बन वेंचर्स (इंडिया) प्राइवेट लिमिटेड को कर्ज के रूप में दिया गया.