नई दिल्ली. केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल ने देश के सभी 2.9 लाख जन सेवा केंद्रों (सीएससी) में बैंकों के विस्तार पटल खोलने का प्रस्ताव किया. ये केंद्र ग्रामीण स्तर के उद्यमी चलाते हैं और अपने अपने इलाकों में विभिन्न सरकारी सेवाएं उपलब्ध करवाते हैं. गोयल ने आईआरसीटी और सीएससी ईगर्वनेंस के बीच रेलवे टिकट बुकिंग को लेकर एक समझौते पर हस्ताक्षर के समय यह प्रस्ताव किया.

रेलमंत्री ने कहा, ‘अगर आप 2.9 स्थानों पर बैंकों के विस्तार पटल खोलने की चुनौती स्वीकार कर लेते हैं तो मेरा सपना सच हो जाएगा. अगर जरूरत पड़ी तो हम मुफ्त बिजली उपलब्ध करवाने के लिए नवीकरणीय ऊर्जा मंत्रालय से गठजोड़ कर सकते हैं ताकि छोटी सौर ऊर्जा इकाइयां स्थापित की जा सकें.’

वाईफाई सुविधा भी
रेल मंत्री ने कहा कि सीएससी पर वाईफाई सेवाएं पहले से ही दी जा रही हैं. उन्होंने कहा, ‘इसके साथ हम कोर बैंकिंग को जोड़ सकते हैं. अगर किसी बैंक का विस्तार पटल भी वहां खोल दिया जाए तो हर ग्रामीण को अपने आसपास ही बैंक भी मिल जाएगा.’ दूरसंचार विभाग ने इस अवसर पर सीएसी के साथ भागीदारी में 5000 वाईफाई चौपाल की शुरुआत भी की. दूरसंचार सचिव अरूणा सुंदरराजन ने कहा कि हर मंत्रालय और सरकारी विभाग ग्रामीण इलाकों में सीएसससी की पहुंच के इस्तेमाल के अवसर टटोल रहा है.

2.9 सीएसी
आईआरसीटीसी और सीएससी इंडिया के बीच समझौते के तहत जन सेवा केंद्र (सीएससी) के जरिए आरक्षित और अनारक्षित, दोनों तरह की टिकट बुक कर सकेगी. गोयल ने इस अवसर पर बताया कि अब सभी 2.9 लाख सीएसी को प्रौद्योगिकी के जरिए जोड़ते हुए उन्हें रेल टिकट बुकिंग में सक्षम बनाया जाएगा.

8-9 मीहने लगेंगे
उन्होंने कहा,‘इस समय लगभग 40,000 सीएससी कनेक्ट हैं. अगले 8-9 महीने में सभी सीएससी में टिकट बुकिंग की सुविधा मिल जाएगी.’ विधि और आईटी मंत्री रवि शंकर प्रसाद ने कहा कि सरकार सीएससी को मौका देगी और उन्हें इसका दोहन करने के लिए आगे आना चाहिए.