कोलकाताः प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने रविवार को जोर देकर कहा कि संशोधित नागरिता कानून पर युवाओं के एक वर्ग को गुमराह किया जा रहा है लेकिन यह कानून किसी की नागरिकता नहीं छीनेगा. मोदी ने कहा कि जिस किसी को भी भारत और भारत के संविधान में आस्था है वह देश का नागरिक बन सकता है. Also Read - केरल सरकार का बड़ा फैसला, नागरिकता कानून और सबरीमाला मामले को लेकर प्रदर्शनकारियों के खिलाफ मुकदमे वापस होंगे

प्रधानमंत्री ने हावड़ा जिले के बेलूर मठ में अपने संबोधन में कहा, ‘‘नए नागरिकता कानून को ले कर युवाओं के बीच बहुत सारे प्रश्न हैं, और इसके बारे में अफवाह फैलने से कुछ लोग गुमराह हो रहे हैं, उनकी शंकाएं दूर करना हमारी जिम्मेदारी है.’’ उन्होंने कहा,‘‘ मैं यह पुन: स्पष्ट कर देना चाहता हूं कि नया नागरिकता कानून किसी की नागरिकता छीनने के बारे में नहीं है बल्कि नागरिकता देने के बारे में है.’’ Also Read - VIDEO: राहुल गांधी ने कहा- 'हम दो-हमारे दो' अच्छी तरह सुन लें, असम को कोई नहीं बांट पाएगा, CAA नहीं होगा

स्वामी विवेकानंद की जयंती पर बेलूर मठ पहुंचे पीएम मोदी, युवाओं को किया संबोधित, ममता पर साधा निशाना Also Read - अमित शाह का बड़ा बयान, कोविड-19 टीकाकरण समाप्त होने के बाद लागू किया जाएगा CAA

मोदी ने कहा कि राजनीतिक हित साधने के लिए कुछ लोग नए नागरिकता कानून के बारे में जानबूझ कर अफवाहें फैला रहे हैं. मोदी ने अल्पसंख्यकों के धार्मिक उत्पीड़न के खिलाफ आवाज उठाने के लिए युवाओं की सराहना की और कहा कि देश के युवाओं की ऊर्जा 21वीं सदी में बदलाव का वाहक बनेगी. मोदी दो दिन की यात्रा पर यहां आए हैं. उन्होंने कहा कि मैं आश्वासन दिलाना चाहता हूं कि इस कानून से किसी भी भारतीय को नुकसान नहीं होगा.