नई दिल्ली। केंद्रीय प्रशासनिक अधिकरण (कैट) ने केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल (सीआईएसएफ) भर्ती में एक युवक को टैटू से जुड़े मामले में राहत दी. युवक ने कलाई के पास वाले हिस्से में टैटू बनवाया हुआ था जिसके लिए उसे चिकित्सीय रूप से अयोग्य ठहरा दिया था. इसके बाद उसने टैटू हटवाने के लिए ऑपरेशन कराया लेकिन ऑपरेशन के बाद दाग रह गया और इसके लिए दोबारा उसे अयोग्य ठहरा दिया गया.

दोबारा मेडिकल का निर्देश 

न्यायिक सदस्य एस एन तर्दल और प्रशासनिक सदस्य के एन श्रीवास्तव की एक पीठ ने कर्मचारी चयन आयोग (एसएससी) को दो महीने के भीतर आवेदक की मेडिकल जांच दोबारा से कराने के निर्देश दिए और कहा कि अगर उसका घाव पूरी तरह भर गया हो तो इसके बाद उसे चार हफ्ते के अंदर सीआईएसएफ में नियुक्त कर लिया जाए.

फेसबुक के जरिए 7 साल बाद परिवार से मिला लापता लड़का

अधिकरण ने कहा कि शरीर पर टैटू स्वास्थ्य से जुड़ा मामला नहीं है और चिकित्सा जांच के उद्देश्य से उसपर ध्यान देने की जरूरत नहीं है. पीठ ने कहा कि सरकार के किसी भी दिशानिर्देश में ‘टैटू’ को स्वास्थ्य से जुड़े मामले के रूप में प्रतिबंधित नहीं किया गया है.

ये है मामला

हरियाणा के रहने वाले जगबीर ने ‘दिल्ली पुलिस, केंद्रीय सशस्त्र पुलिस बल (सीएपीएफ) और एएसआई की भर्ती के लिए 2016 में सीआईएसएफ की परीक्षा दी थी. सभी चरणों में पास होने के बाद उसे टैटू के चलते चिकित्सा जांच में अयोग्य ठहरा दिया गया.

उसने अपनी चिकित्सा जांच की समीक्षा करने का अनुरोध किया और और टैटू हटवाने के लिए ऑपरेशन कराया. समीक्षा चिकित्सा बोर्ड ने 2017 में उसकी दोबारा चिकित्सीय जांच की और बड़ा सा दाग और घाव के पूरी तरह ना भरने के चलते उसे फिर से चिकित्सीय रूप से अयोग्य करार दे दिया.