Kerala Secretariat: केरल के नेता प्रतिपक्ष रमेश चेन्निथला ने शनिवार को कहा कि राज्य सचिवालय में इस सप्ताह की शुरुआत में लगी आग की स्वतंत्र एजेंसी द्वारा जांच की जानी चाहिए. Also Read - NDA से अलग हुआ SAD तो अमरिंदर सिंह ने ली चुटकी- फैसले को बादल परिवार के लिए 'राजनीतिक मजबूरी' बताया

चेन्निथला ने कहा, “दो अलग-अलग टीमों द्वारा वर्तमान जांच से सच्चाई कभी सामने नहीं आएगी क्योंकि अबतक की जांच रिपोर्ट में एक पुराने पंखे को विलेन की तरह बताया गया है. जिसे गिरफ्तार भी नहीं किया जा सकता. यह वास्तव मे हैरान करने वाला है. Also Read - BJP की राष्ट्रीय उपाध्यक्ष उमा भारती कोरोना वायरस से संक्रमित, खुद को क्वारंटाइन कर लोगों से की यह अपील...

कांग्रेस नेता ने कहा”राज्य सचिवालय में एक बहुत ही महत्वपूर्ण विभाग में आग लग गई, जिसमें गुप्त फाइलें थीं, केवल एक स्वतंत्र एजेंसी द्वारा जांच से सच्चाई सामने आ जाएगी. इस विशेष कार्यालय में, केंद्रीकृत एयर कंडीशनिंग है और अब हमें बताया गया है कि एक पुराने पंखे से आग लग गई. यह तो सच में चौंकाने वाली बात है. अब उस पुराने पंखे को कैसे गिरफ्तार कर सकते हैं. Also Read - भाजपा की नई टीम तैयार, इन नए चेहरों पर पार्टी ने दिखाया भरोसा

इस बीच, दो एजेंसियों द्वारा की गई जांच के बाद एक वरिष्ठ अधिकारी  ए कौशिक ने बताया है कि कार्यालय में कोई ऐसी फाइल नहीं जली है जिसकी बात की जा रही है. आग एक पुराने पंखें की वजह से लगी है जो बहुत ज्यादा गर्म हो गया था और उसमें से चिंगारी निकल रही थी जो पर्दे में लग गई. जिसमें कुछ फाइलें जल गई हैं.

दोनों एजेंसियों ने सीसीटीवी फुटेज की भी जांच की और पता चला कि कोई फाउल प्ले नहीं था और वर्तमान में सभी फाइलों की जांच और ई-स्टोरेज के लिए स्कैन किया जा रहा है. अधिकारियों ने बताया है कि ओणम की छुट्टियां शुरू होने के साथ, जांच टीमों को ओणम के तुरंत बाद अपनी अंतिम रिपोर्ट प्रस्तुत करने की उम्मीद है.

इस घटना से पिनाराई विजयन सरकार की परेशानी बढ़ गई है. वहीं राज्य के भाजपा अध्यक्ष के सुरेंद्रन आग लगने के तुरंत बाद घटनास्थल पर पहुंचे थे.मुख्य सचिव विश्वास मेहता ने इस मामले में दोषियां पर कार्रवाई की बात कही थी. उन्होंने ही सबसे पहले मीडिया में बयान दिया. इसके बाद केरल पुलिस ने सुरेंद्रन को हिरासत में ले लिया था.

बता दें कि केरल सोना तस्करी मामले में केरल में बवाल बढ़ता ही जा रहा है. विपक्षी पार्टियां भाजपा और कांग्रेस ने केरल सरकार पर ये आरोप लगाए हैं कि सोना तस्करी मामले से जुड़ी सारी फाइलें जला दी गई हैं. वहीं, राज्य सरकार की तरफ से कहा जा रहा है विपक्ष अफवाह उड़ा रहा है, तस्करी से जुड़ी हुई कोई महत्वपूर्ण फाइल नहीं जली थी.