बोकारो (झारखंड): बोकारो के करमा गांव के 42 वर्षीय भखल घासी की कथित तौर पर भुखमरी के कारण मौत हो गई. हालांकि, उपायुक्त (डीसी) ने कहा कि लंबी बीमारी के कारण घासी की मृत्यु हो गई. बोकारो के डीसी मुकेश कुमार ने कहा, “वह एनेमिक था और डॉक्टर की निगरानी में था. वह बेंगलुरु में काम करता था और छह महीने पहले बीमार हो गया था. लंबी बीमारी के कारण उनकी मौत हो गई.” Also Read - सूखे का कहरः बारिश न होने से 20 लाख लोगों पर मंडरा रहा मौत का खतरा


मुकेश कुमार ने कहा “संपूर्ण परिवार एनेमिक है. बीडीओ को विधवाओं के लिए भीमराव अंबेडकर आवास योजना के तहत तुरंत लाभ देने के लिए कहा गया है. उनकी पत्नी गंभीर एनीमिक बीमारी से गुजर रही हैं, उन्हें सरकारी कोष से उपचार कराया जाएगा. पूरे परिवार का बॉडी टेस्ट किया जाएगा.

वहीं मृतक व्यक्ति के पास न तो राशन कार्ड था और न ही आयुष्मान कार्ड. उनकी विधवा रेखा देवी ने कहा कि उनके परिवार के पास कई दिनों तक खाने के लिए खाना नहीं था. इस बीच, मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने ट्वीट किया और मामले को गंभीरता से लिया. मुख्यमंत्री द्वारा इस मौत का संज्ञान लेने के बाद बोकारो का प्रशासनिक अमला हरकत में आया और जिले के उपायुक्त अपने कर्मचारियों के साथ गाँव पहुँचे.