चतरा (झारखंड): भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने गुरुवार को दावा किया कि जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35ए हटाकर प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने पूरे देश से आतंकवाद के खात्मे का श्रीगणेश किया है. झारखंड विधानसभा चुनावों के लिए प्रथम चरण के चुनाव प्रचार के अंतिम दिन केन्द्रीय गृह मंत्री ने चुनावी रैली को संबोधित करते हुए भाजपा अध्यक्ष अमित शाह ने यह बात कही.Also Read - Pariksha Pe Charcha 2022: परीक्षा पे चर्चा के लिये रजिस्‍ट्रेशन की आज आखिरी तारीख, जल्‍दी करें

शाह ने कहा कि भारतीय जनता पार्टी से भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 और 35ए हटाकर पूरे देश से आतंकवाद के खात्मे का श्रीगणेश किया है. उन्होंने जनता से पूछा कि देश सलामत रहे इसकी झारखंड वालों की जिम्मेदारी है कि नहीं है? आप चाहते हैं या नहीं कि देश सलामत रहे? दस साल तक मौनी बाबा मनमोहन सिंह की सरकार थी. पाकिस्तान से आलिया, मालिया, जमालिया घुस जाते थे. बम धमाके करते थे. सरकार मौन खड़ी रहती थी.’’ Also Read - UP Election 2022: अमित शाह की जाट नेताओं से मीटिंग, BJP सांसद के प्रस्‍ताव पर जयंत चौधरी ने दिया जवाब

शाह ने कहा कि नरेन्द्र मोदी सरकार आई, उरी में किया, पुलवामा में किया, दस ही दिन के अंदर एयर स्ट्राइक और सर्जिकल स्ट्राइक करके पाकिस्तान में घर में घुसकर आतंकवादियों का खात्मा करने का काम नरेन्द्र मोदी की सरकार ने किया. उन्होंने कहा कि कांग्रेस पिछले 70 सत्तर साल से आतंकवाद की जड़ अनुच्छेद 370 और 35ए को वोट बैंक की राजनीति के लिए संभाल कर रखे हुए थी.’’ लेकिन जैसे ही आप ने नरेन्द्र मोदी जी को झारखंड की 14 में से 12 सीटें दे दीं. भाजपा की बहुमत की सरकार बनी. वह प्रधानमंत्री बने और पांच अगस्त को नरेन्द्र मोदी जी ने अनुच्छेद 370 और 35 ए को खत्म कर दिया. Also Read - Republic Parade 2022: उत्तराखंड की टोपी और मणिपुरी स्टोल में नजर आए PM मोदी, निकाले जा रहे हैं सियासी मायने

शाह ने कहा कि ऐसा करके नरेन्द्र मोदी की सरकार ने देश से आतंकवाद के खात्मे की शुरुआत कर दी. लेकिन कांग्रेस कहती है कि झारखंड का क्या लेनदेन 370 से? मुझे बतायें युवा कश्मीर हमारा है या नहीं है? कश्मीर भारत का हिस्सा है या नहीं है? उन्होंने दो टूक कहा कि सुन लो राहुल गांधी झारखंड की जनता कहती है, कश्मीर भारत का अभिन्न हिस्सा है और वह भारत के साथ है और उसे भारत से कोई छीन नहीं सकता है, यह झारखंड वालों का संकल्प है.’’