Dhanbad, District Judge  Murder Case ,  News: झारखंड (Jharkhand)के धनबाद (Dhanbad district) में कल बुधवार को सुबह मॉर्निंग वाक पर निकले जिला जज उत्‍तम आनंद (Uttam Anand) की मौत के मामले को मर्डर के तहत दर्ज किया गया है. झारखंड पुलिस ने सीसीटीवी कैमरे के आधार पर इस सनसनीखेज हत्‍याकांड (Murder case) में दो आरोपियों की गिरफ्तारी के बाद बडा खुलासा किया है. पूछताछ के दौरान इन आरोपियों ने अपना अपराध भी स्‍वीकार कर लिया है.Also Read - NDA में महिला उम्मीदवारों को अनुमति के लिए अधिसूचना अगले साल मई तक जारी होगी

आईजी (संचालन) अमोल विनुकांति होमकर ने बताया, ” जांच के दौरान सामने आए तथ्यों और सीसीटीवी फुटेज के आधार पर 2 लोग और ऑटो शामिल अपराध में पहचान की गई. दो लोगों लखन कुमार वर्मा और राहुल वर्मा को गिरफ्तार किया गया और उनके कब्जे से ऑटो जब्त किया गया. उन्होंने अपना गुनाह कबूल कर लिया है. Also Read - अखाड़ा परिषद अध्यक्ष नरेंद्र गिरि मृत मिले, पुलिस ने बताई आत्महत्या, शिष्य बोले- मर्डर है

Also Read - Schools Reopening News: सुप्रीम कोर्ट ने 12वीं के छात्र से कहा-ये हमारा काम नहीं, आप पढ़ाई पर ध्यान दो

राज्‍य के महाधिवक्‍ता राजीव रंजन ने झारखंड के धनबाद जिला न्यायाधीश की कथित हत्या पर कहा, ”इस मामले में दो आरोपितों को गिरफ्तार किया गया है. विभिन्न कोणों पर विचार किया जा रहा है और जांच की जा रही है. विशेष जांच दल (एसआईटी) का गठन किया गया है.

झारखंड के धनबाद जिले में बुधवार की सुबह एक वाहन से टक्कर लगने के बाद जज उत्‍तम आनंद की मौत हो गई थी. धनबाद कोर्ट जिला एवं सत्र न्यायाधीश-अष्टम उतम आनंद बुधवार की सुबह घूमने निकले थे, तभी सदर थानांतर्गत जिला अदालत के निकट रणधीर वर्मा चौक पर यह घटना हुई थी. एसएसपी संजीव कुमार ने बताया कि सुबह करीब 5 बजे एक वाहन ने पीछे से उन्हें टक्कर मारी और फरार हो गया. इस अधिकारी ने बताया था कि खून से लथपथ न्यायाधीश को एक आटो रिक्शा चालक ने देखा और वह उन्हें निर्मल महतो मेडिकल कालेज एंड हॉस्पिटल ले गया जहां उनका निधन हो गया.

सुप्रीम कोर्ट के समक्ष पहुंचा मामला
झारखंड हाईकोर्ट ने (Jharkhand High Court) राज्‍य के धनबाद (Dhanbad district) में कल बुधवार को जिला जज उत्‍तम आनंद ((Uttam Anand)) की कथित हत्‍या के मामले में आज गुरुवार को स्‍वत: संज्ञान (suo motu cognizance) लिया है. वहीं, आज ही सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) के समक्ष भी मामले में स्‍वत: संज्ञान लेने का अनुरोध किया गया है. सुप्रीम कोर्ट प्रधान न्यायाधीश ने सिंह से कहा, ”हमें घटना के बारे में पता है और एससीबए के प्रयासों की हम सराहना करते हैं. मैंने झारखंड उच्च न्यायालय के मुख्य न्यायाधीश से बात की है. उन्होंने मामले का संज्ञान लिया है और अधिकारियों को पेश होने के लिए कहा है. वहां मामला चल रहा है. इसे वहीं रहने दीजिए.”

शीर्ष अदालत का हस्तक्षेप जरूरी नहीं है, हाईकोर्ट मामले का पहले ही संज्ञान ले चुका
पीठ ने कहा कि फिलहाल मामले में शीर्ष अदालत का हस्तक्षेप जरूरी नहीं है क्योंकि उच्च न्यायालय मामले का पहले ही संज्ञान ले चुका है. वरिष्ठ वकील और पूर्व अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल विकास सिंह ने सुप्रीम कोर्ट के समक्ष धनबाद के जिला न्यायाधीश की कथित हत्या का उल्लेख किया. सुप्रीम कोर्ट बार एसोसिएशन की ओर से पेश हुए सिंह ने अदालत से घटना का स्वत: संज्ञान लेने को कहा है. प्रधान न्यायाधीश की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष इस मामले का उल्लेख करने से पहले सिंह ने न्यायमूर्ति डी वाई चंद्रचूड़ की अध्यक्षता वाली पीठ के समक्ष इसका उल्लेख किया था. सिंह ने मामले को ”स्तब्धकारी बताते हुए कहा कि उच्चतम न्यायालय को मामले का संज्ञान लेना चाहिए. न्यायमूर्ति चंद्रचूड़ ने सिंह से कहा कि मामले को प्रधान न्यायाधीश के समक्ष इसका उल्लेख करें.