रांचीः झारखंड के मनोनीत मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन के यहां 29 दिसंबर को आयोजित होने वाले शपथ ग्रहण समारोह में पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के अलावा उद्धव ठाकरे, ममता बनर्जी एवं अरविंद केजरीवाल समेत कई राज्यों के मुख्यमंत्री, कांग्रेस के नेता राहुल गांधी एवं प्रियंका गांधी समेत कई नेता मौजूद रहेंगे. झारखंड मुक्ति मोर्चा प्रवक्ता एवं महासचिव सुप्रियो भट्टाचार्य शुक्रवार को यहां एक विज्ञप्ति जारी कर सूचित किया कि हेमंत सोरेन के शपथ ग्रहण समारोह को ऐतिहासिक बनाने के लिए प्रधानमंत्री, सभी राज्यों के मुख्यमंत्रियों, बड़े नेताओं एवं सम्माननीय लोगों को आमंत्रित किया गया है.

उन्होंने बताया कि पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे, पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी, दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल, राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मध्य प्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ, छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल, कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी, कांग्रेस की महासचिव प्रियंका गांधी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष शरद पवार, बसपा अध्यक्ष मायावती, उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव, कर्नाटक के पूर्व मुख्यमंत्री एचडी कुमारस्वामी, पूर्व वित्त मंत्री पी चिदंबरम और अहमद पटेल के कार्यक्रम में आने की सहमति मिल चुकी है.

उन्होंने बताया कि हेमंत सोरेन के शपथ ग्रहण का कार्यक्रम यहां मोरहाबादी मैदान में 29 दिसंबर को दोपहर दो बजे होगा. सुप्रियो ने बताया कि हेमंत सोरेन ने कार्यक्रम में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को भी आमंत्रित किया था लेकिन वह व्यस्तता के चलते कार्यक्रम में नहीं आ पा रहे हैं.

झारखंड में आज तय हो सकता है हेमंत सोरेन की अगुवाई वाले मंत्रिमंडल में हिस्सेदारी का फार्मूला

उन्होंने हेमंत को शुभकामनाएं दी हैं और कहा है कि समय मिलते ही वह झारखंड आयेंगे. सुप्रियो भट्टाचार्य ने कहा कि जब भी प्रधानमंत्री राज्य आयेंगे, राज्य सरकार उनका स्वागत करेगी. हेमंत ने राज्य के कार्यवाहक मुख्यमंत्री रघुवर दास को भी फोन कर शपथ ग्रहण समारोह में शरीक होने का न्यौता दिया जिसे दास ने स्वीकार कर लिया और शपथ ग्रहण समारोह में शामिल होने की पुष्टि की है.

झामुमो प्रवक्ता ने बताया कि इनके अलावा बिहार के पूर्व उपमुख्यमंत्री एवं राजद के नेता तेजस्वी यादव, पूर्व सांसद शरद यादव, तमिलनाडु में द्रमुक के अध्यक्ष एम के स्टालिन, राज्यसभा के उपसभापति हरिवंश, आंध्र के पूर्व मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत, कांग्रेस नेता केसी वेणुगोपाल, आरपीएन सिंह, उमंग सिंघार, प्रणव झा, सांसद टी आर बालू, द्रमुक सांसद कनिमोई, बिहार के पूर्व मंत्री अब्दुल बारी सिद्दीकी तथा उड़ीसा के कांग्रेस अध्यक्ष निरंजन पटनायक ने भी कार्यक्रम में शामिल होने की सहमति दे दी है.

उन्होंने कहा कि कुछ अन्य अतिथियों एवं नेताओं के शपथ ग्रहण समारोह में आने की पुष्टि कल तक मिलने की संभावना है. झारखंड में 30 नवंबर से 20 दिसंबर तक पांच चरणों में हुए विधानसभा चुनावों में झारखंड मुक्ति मोर्चा के नेतृत्व वाले विपक्षी झामुमो-कांग्रेस-राजद गठबंधन ने 81 सदस्यीय विधानसभा में 47 सीटें जीतकर स्पष्ट बहुमत हासिल किया था.

हेमंत सोरेन ने 23 दिसंबर को चुनाव परिणाम आने के बाद गठबंधन सहयोगियों के साथ 24 दिसंबर को राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू के पास जाकर सरकार बनाने का दावा पेश किया था जिसके बाद राज्यपाल ने 25 दिसंबर को उन्हें राज्य का मुख्यमंत्री मनोनीत कर 29 दिसंबर को शपथग्रहण के लिए आमंत्रित किया था.