रांची: झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) के कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन ने रविवार को राज्य के मुख्यमंत्री के रूप में यहां शपथ ली और उसके बाद कहा कि उनकी सरकार का शिक्षा और स्वास्थ्य पर जोर रहेगा. सोरेन ने मुख्यमंत्री के रूप में शपथ लेने के बाद मोरहाबादी मैदान स्थित महात्मा गांधी एवं सिद्धू कान्हू पार्क स्थित सिद्धू-कान्हू की प्रतिमा पर पुष्प अर्पित कर उन्हें नमन किया. इस क्रम में मुख्यमंत्री बच्चों से भी मिले और उनसे हाथ मिला कर उनकी कुशलता जानी.

इस दौरान उन्होंने पत्रकारों से कहा कि उनकी सरकार शहीदों को सम्मान देगी, क्योंकि शहीदों के कारण ही आज हमसब यहां सम्मान की जिंदगी जी रहे हैं. पत्रकारों द्वारा पूर्व मुख्यमंत्री और झामुमो के अध्यक्ष शिबू सोरेन के स्वास्थ्य और शिक्षा पर विशेष ध्यान दिए जाने के संबंध में पूछे जाने पर उन्होंने कहा कि उनकी (शिबू सोरेन) बातें सही हैं. सरकार शिक्षा और स्वास्थ्य पर विशेष ध्यान देगी. इससे पहले सोरेन को मोरहाबादी मैदान में आयोजित एक समारोह में राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू ने मुख्यमंत्री के रूप में पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई.

हेमंत सोरेन बने झारखंड के मुख्यमंत्री, 3 मंत्रियों ने भी ली शपथ, पीएम मोदी ने दी बधाई

जुलाई, 2013 में पहली बार बने थे मुख्यमंत्री
इससे पहले हेमंत ने जुलाई, 2013 में मुख्यमंत्री पद की शपथ ली थी. अर्जुन मुंडा सरकार में उपमुख्यमंत्री रहे सोरेन इससे पहले 2013 में राज्य के सबसे कम उम्र के मुख्यमंत्री बने और दिसंबर 2014 तक इस पद पर रहे. वर्ष 2014 में राज्य में भाजपा की सरकार बन गई, झारखंड को रघुवर दास के रूप में गैर-आदिवासी मुख्यमंत्री मिला और हेमंत सोरेन नेता प्रतिपक्ष बने.

राहुल गांधी ने जताया भरोसा, सभी के लिए काम करेगी झारखंड की हेमंत सोरेन सरकार

शपथ ग्रहण समारोह में झारखंडी संस्कृति पर जोर
शपथ ग्रहण समारोह के पूर्व हेमंत अपने पिता के आवास पहुंचे और माता-पिता से आशीर्वाद लिया. इसके बाद वह अपने पिता शिबू को अपनी ही गाड़ी में समारोह स्थल तक साथ ले गए. हेमंत सोरेन के शपथ ग्रहण समारोह में झारखंडी संस्कृति पर जोर दिया गया. मोरहाबादी मैदान में भव्य समारोह का मंच झारखंड की कोहबर कला के साथ ही झारखंडी कला-संस्कृति को भी प्रमुखता से प्रदर्शित किया गया है. मंच को पूरी तरह कोहबर कला (पेंटिंग) से सजाई गई है.