रांची: झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से बातचीत करते हुए कहा कि उनकी सरकार कोरोना वायरस के इस संकट काल में केन्द्र के हर फैसले के साथ है तथा वह केन्द्र के हर परामर्श का अक्षरशः पालन करती आ रही है. Also Read - क्या है पीएम मोदी का 'चैंपियन'? छोटे उद्योग के लिए संजीवनी साबित हो सकता है ये प्लेटफॉर्म

उन्होंने प्रधानमंत्री से मनरेगा में दी जाने वाली मजदूरी बढ़ाने और श्रमिकों को दिये जाने वाले कार्यदिवस बढ़ाने की भी अपील की. मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने आज प्रधानमंत्री से देश के सभी मुख्यमंत्रियों के साथ हुई वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के दौरान यह बात कही. Also Read - पीएम मोदी ने कहा- देश में पहली बार रेहड़ी-पटरी वालों को भी मिलेगा लोन, 'जय किसान' मंत्र भी आगे बढ़ा

मुख्यमंत्री सोरेन ने कहा, ‘‘झारखंड राज्य कोरोना के इस संकट काल में केन्द्र सरकार के हर फैसले के साथ है. लेकिन मेरा अनुरोध है कि मनरेगा में श्रमिकों को दी जाने वाली राशि को पचास प्रतिशत बढ़ा दिया जाये और एक वर्ष में श्रमिकों को दिये जाने वाले अधिकतम कार्यदिवसों में भी कम से कम पचास प्रतिशत की वृद्धि कर दी जाये.’’ Also Read - Coronavirus Lockdown: स्कूलों को फिर से खोलने की योजना पर अभिभावकों की बढ़ी चिंता, जानें क्या है सरकार की प्लानिंग

मुख्यमंत्री ने कोरोना महामारी से निपटने को लेकर राज्य सरकार द्वारा की जा रही पहल से प्रधानमंत्री को अवगत कराया और कहा कि कोरोना संकट और लॉकडाउन को लेकर केंद्र सरकार द्वारा जो परामर्श जारी किए जाते रहे हैं ,उसका झारखंड सरकार अक्षरशः पालन करती आ रही है और आगे भी केंद्र जो निर्णय लेगा, उसका भी राज्य सरकार पालन करेगी. नके घरों तक वापस जाने की व्यवस्था नहीं की जायेगी. सोरेन ने कहा, ‘‘आज की स्थिति में जीवन और जीविका दोनों को प्रथमिकता देनी होगी.’’