झारखंड (Jharkhand) के जमशेदपुर (Jamshedpur) के बहुचर्चित शेल्‍ट होम में लड़कियों के यौन शोषण (Shelter Home Sexual Abuse Case) के मामले में फरार आरोपियों को मध्‍य प्रदेश से गिरफ्तार किया गया है. जमशेदपुर की पुलिस ने जानकारी के आधार पर मध्य प्रदेश (arrested from Madhya Pradesh) के सिंगरौली (Singrauli) के माडा में छापा मारकर 4 आरोपियों को को गिरफ्तार किया और ट्रांजिट रिमांड पर उन्हें जमशेदपुर लाई है. बता दें कि आरोपियों के बाल आश्रय गृह से 40 बच्चों को दूसरे आश्रय गृह में भेजे जाने के दौरान उनमें से दो लड़कियां बीते शुक्रवार को लापता हो गई थीं. इन बच्चियों का अभी तक पता नहीं लग सका है.Also Read - Jharkhand में ऑनर किलिंग: पिता ने दूसरी जाति के लड़के से शादी करने पर प्रेग्‍नेंट बेटी की हत्या की

जमशेदपुर के टेल्को थाना क्षेत्र के ‘मदर टेरेसा वेलफेयर ट्रस्ट’(‘Mother Teresa Welfare Trust’)के संचालक हरपाल सिंह थापर, जिला बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष पुष्पा रानी तिर्की, वार्डन गीता देवी और उसके पुत्र आदित्य सिंह और टोनी डेविड को पुलिस ने स्थानीय बाल आश्रय गृह यौन शोषण मामले में मध्यप्रदेश के सिंगरौली में माडा से बुधवार को गिरफ्तार किया. Also Read - MP: पन्‍ना रॉयल फैमिली में विवाद में, महारानी जीतेश्‍वरी अपनी सास राजमाता को धमकाने पर अरेस्‍ट, भेजी गईं जेल

एमपी के सिंगरौली जिले में छापा, ट्रांजिट रिमांड पर जमशेदपुर लाए गए 4 आरोपी  
जमशेदपुर के एसएसपी एम तमिलवनन ने बताया कि पुलिस ने प्राप्त सूचना के आधार पर मध्य प्रदेश के सिंगरौली के माडा में छापा मारकर चारों को गिरफ्तार किया और ट्रांजिट रिमांड पर उन्हें जमशेदपुर लाई है. Also Read - सुप्रीम कोर्ट ने मध्य प्रदेश की BSP MLA के पति की जमानत की रद्द, जताई सख्‍त नाराजगी

बच्चियों का अभी तक पता नहीं लग सका
एसएसपी एम तमिलवनन ने बताया कि आरोपियों के बाल आश्रय गृह से 40 बच्चों को जमशेदपुर के ही दूसरे आश्रय गृह में भेजे जाने के दौरान उनमें से दो बच्चियां शुक्रवार को लापता हो गई थीं. इन बच्चियों का अभी तक पता नहीं लग सका है.

स्थानांतरित करने के दौरान दो नाबालिग लड़कियां लापता हो गई थीं
इससे पहले जिला समाज कल्याण अधिकारी ने 11 जून को आश्रय गृह के सभी 24 अल्पवयस्क लड़कियों एवं 16 लड़कों को जिले के दूसरे बाल आश्रय गृह ‘बाल कल्याण आश्रम’में स्थानांतरित करवाया था, लेकिन इस दौरान दो नाबालिग लड़कियां लापता हो गई थीं, जिनका अब तक पता नहीं चल सका है.

एफआईआर होने के 8 दिनों के भीतर चारो आरोपी अरेस्‍ट 
पुलिस ने बताया कि आरोपियों द्वारा संचालित महिला आश्रय गृह की दो नाबालिग लड़कियों द्वारा यौन शोषण एवं उत्पीड़न की प्राथमिकी दर्ज कराए जाने के 8 दिनों के भीतर ही बुधवार को पुलिस ने मध्य प्रदेश के सिंगरौली में छापा चारों आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है.

मामले की उच्चस्तरीय जांच के लिए 11 सदस्यीय समिति का गठन
जमशेदपुर के उपायुक्त सूरज कुमार ने पिछले सप्ताह बताया था कि उन्होंने मामले की उच्चस्तरीय जांच के लिए 11 सदस्यीय समिति का गठन किया है, जिसमें पुलिस, प्रशासन एवं सभी संबद्ध विभागों के अधिकारी शामिल हैं, लेकिन बच्चों की सुरक्षा को देखते हुए 11 जून की शाम ही उन्हें दूसरे बाल आश्रय गृह ‘बाल कल्याण आश्रम’स्थानांतरित कर दिया गया.

संचालक समेत अन्य पर कई गंभीर आरोप
वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक एम. तमिलवानन ने बताया कि दोनों नाबालिगों ने संचालक समेत अन्य पर कई गंभीर आरोप लगाए हैं, जिसकी जांच हो रही है. जमशेदपुर की बाल कल्याण समिति की अध्यक्ष पुष्पा रानी तिर्की को मामले में नामजद किए जाने के बाद उन्हें तत्काल प्रभाव से हटाए जाने की मांग को लेकर स्थानीय लोगों और अनेक संगठनों ने उपायुक्त सूरज कुमार को मांग पत्र दिए हैं.