रांची: झारखंड मुक्ति मोर्चा की अगुवाई वाले तीन दलों के गठबंधन ने 81 सदस्यीय राज्य विधानसभा चुनाव में सोमवार को बहुमत हासिल कर लिया. निर्वाचन आयोग ने अपनी वेबसाइट पर यह जानकारी दी है. झामुमो के नेतृत्व में कांग्रेस और राजद के गठबंधन को पहले ही 43 सीटों पर जीत हासिल हो चुकी है जो कि जरूरी बहुमत से दो सीट अधिक है . झारखंड में ‘घर-घर मोदी’ की तर्ज पर गढ़ा गया ‘घर-घर रघुवर’ का नारा नहीं चला. प्रदेश में रघुवर सरकार के प्रति लोगों के असंतोष को शायद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी भी नहीं भांप पाए क्योंकि इस असंतोष के आगे मोदी मैजिक भी बेअसर चला गया.

झारखंड विधानसभा चुनाव-2019 के सोमवार को मतगणना के दौरान मुख्यमंत्री रघुवर दास और झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) हेमंत सोरेन ने भले ही जनादेश का सम्मान करने की बात कही, लेकिन इस जनादेश से अब स्पष्ट है कि मतदाता ने रघुवर दास के हाथ से राज छीनकर हेमंत को ताज पहना दिया. ऐसी स्थिति में राज्य में महागठबंधन की जीत लगभग सुनिश्चित दिख रही है और हेमंत सोरेन का मुख्यमंत्री बनना तय है, जबकि दूसरी ओर सत्ताधारी भाजपा की इन चुनावों में करारी हार हुई है. मुख्यमंत्री रघुवर दास जहां अपने निर्वाचन क्षेत्र जमशेदपुर (पूर्वी) से अपने ही मंत्रिमंडल के सदस्य रहे सरयू राय से हार के करीब हैं, वहीं इस चुनाव में भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा और विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव को भी हार का सामना करना पड़ा.

कौन हैं झारखंड में BJP की नैया डुबोने वाले हेमंत सोरेन, कुछ ऐसी रही है अब तक की जर्नी

विधानसभा अध्यक्ष दिनेश उरांव ने सिसई विधानसभा से 30 हजार से अधिक मतों से चुनाव हार गए. सिसई विधानसभा सीट से भाजपा के टिकट पर दिनेश उरांव का मुकाबला झामुमो के प्रत्याशी जिग्गा होरो से था. उरांव को 45,592 वोट मिले और उनके प्रतिद्वंद्वी झारखंड मुक्ति मोर्चा (झामुमो) उम्मीदवार जीगा सुसरन होरो को 75446 वोट मिले. इधर, भाजपा का नेतृत्व कर रहे प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा को भी हार का सामना करना पड़ा. चक्रधरपुर सीट पर झामुमो के सुखराम ने कब्जा जमा लिया है. उन्होंने भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा को मात दी. सुखराम ने गिलुवा को 12234 मतों से हराया. सुखराम उरांव को 43832, जबकि लक्ष्मण गिलुवा को 31598 मत मिले.

इस चुनाव में भाजपा को करारी हार का सामना करना पड़ा है. पिछले विधानसभा चुनावों में जहां भाजपा ने 37 सीटें जीती थीं, वहीं वह इस बार सिर्फ 26 पर सिमटती नजर आ रही है. भाजपा की सहयोगी रही आजसू पिछली विधानसभा में सिर्फ आठ सीटें लड़कर पांच सीटों पर जीती थी, जबकि इस बार उसने 53 सीटें लड़कर महज दो सीटों पर बढ़त बनाए हुए है.

झारखंड के नतीजे को विपक्ष ने सीएए, एनआरसी से जोड़ा, भाजपा ने कहा-स्थानीय मुद्दों की भूमिका रही

इस बीच, अब रघुवर दास जनादेश के सम्मान की बात कर रहे हैं. रांची में पत्रकारों से चर्चा करते हुए दास पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा, “इस चुनाव में अब तो जो भी जनादेश आ रहा है, उसको स्वीकार करता हूं.” उन्होंने कहा कि पिछले चुनाव में मिले जनादेश के मुताबिक उन्होंने राज्य में विकास के कार्य करने की कोशिश की और लोगों की सेवा करने का काम किया. मुख्यमंत्री ने आगे कहा, “इस चुनाव में यदि हार होती है तो यह भाजपा की नहीं, मेरी हार होगी.” बहरहाल, इतना तय है कि मतगणना नतीजों ने भाजपा और उसके मुख्यमंत्री रघुवर दास को तगड़ा झटका दिया है. भाजपा के कई दिग्गज नेता या तो चुनाव हार गए हैं, या हार के करीब हैं.

बीजेपी नेतृत्‍व ने मेरे स्‍वाभिमान को चोट पहुंचाई, आहत होकर मैं मुख्‍यमंत्री के खिलाफ चुनाव लड़ा: सरयू राय

रघुवर दास ने झारखंड मुख्यमंत्री पद से इस्तीफा दिया
झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने विधानसभा चुनाव में मिली हार के बाद अपने पद से त्यागपत्र दे दिया. उन्होंने राज्यपाल द्रौपदी मुर्मू को सोमवार शाम राजभवन में अपना इस्तीफा सौंपा. दास जमशेदपुर पूर्वी सीट पर 1995 से जीतते आ रहे थे लेकिन इस बार उनकी हार के पूरे आसार नजर आ रहे हैं.

झारखंड लोगों की सेवा करते रहेंगे : मोदी
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को झारखंड विधानसभा के शाम तक के रुझानों पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि उनकी पार्टी राज्य की जनता की सेवा करती रहेगी. उन्होंने ट्विटर के माध्यम से कहा, “भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) को कई वर्षों तक राज्य की सेवा करने का अवसर देने के लिए मैं झारखंड के लोगों को धन्यवाद देता हूं. साथ ही मैं पार्टी कार्यकर्ताओं के प्रयासों और कड़ी मेहनत की सराहना करता हूं.” प्रधानमंत्री ने राज्य की जनता की सेवा करने का आश्वासन देते हुए कहा, “हम आने वाले समय में राज्य की सेवा करते रहेंगे और लोगों से जुड़े मुद्दों को उठाते रहेंगे.”

झारखंड में हार पर बोले शाह, ‘जनादेश का करते हैं सम्मान’
भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने सोमवार को झारखंड विधानसभा के शाम तक के रुझानों पर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि पार्टी राज्य की जनता के जनादेश का सम्मान करती है. उन्होंने ट्विटर के माध्यम से कहा, “हम झारखंड की जनता द्वारा दिए गए जनादेश का सम्मान करते हैं.” अमित शाह ने ट्वीट कर कहा, “भाजपा को 5 वर्षो तक प्रदेश की सेवा करने का जो मौका दिया था, उसके लिए हम जनता का हृदय से आभार व्यक्त करते हैं. भाजपा निरंतर प्रदेश के विकास के लिए कटिबद्ध रहेगी.” पार्टी प्रमुख ने राज्य के कार्यकर्ताओं को भी शुक्रिया अदा किया. उन्होंने कहा, “सभी कार्यकर्ताओं का उनके अथक परिश्रम के लिए अभिनंदन.”

(इनपुट आईएएनएस)