रांची: झारखंड विधानसभा चुनाव 2019 (Jharkhand Assembly Elections 2019) के लिए भारतीय जनता पार्टी (BJP) ने बुधवार को यहां अपना घोषणा-पत्र (Manifesto) जारी किया. ‘झारखंड की समद्धि का संकल्प’ नाम से जारी अपने घोषणा-पत्र में ‘सबका साथ-सबका विकास’ के मूल उद्देश्य के साथ गरीबों और गरीबी की बात की गई है. केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद (Ravi Shankar Prasad) ने यहां घोषणा-पत्र को संकल्प पत्र के रूप में जारी करते हुए कहा, “संकल्प पत्र में भाजपा ने सत्ता में वापसी के बाद अगले पांच साल की सरकार में किए जाने वाले विकास कार्यों का उल्लेख किया है. इसमें राज्यभर के लोगों से लिए गए सुझावों को भी सम्मिलित किया गया है.” इस मौके पर मुख्यमंत्री रघुवर दास (Raghubar Das), भाजपा के विधानसभा चुनाव प्रभारी ओम माथुर (Om Mathur), केंद्रीय मंत्री अर्जुन मुंडा (Arjun Munda), भाजपा प्रदेश अध्यक्ष लक्ष्मण गिलुवा सहित पार्टी के कई नेता मौजूद थे.

बॉयफ्रेंड बनाने के शक में प्रेग्नेंट पत्नी से झगड़ रहा था पति, रोकने आए 5 परिजनों भी को मार डाला

संकल्प पत्र में कहा गया है, “अगले पांच वर्षों में सरकार के विभिन्न कौशल कार्यक्रमों द्वारा कौशल प्रशिक्षण (skill training) के माध्यम से 20 लाख युवाओं को नौकरी (Job) के लिए तैयार किया जाएगा. स्वरोजगार को बढ़ावा देने के लिए 500 करोड़ रुपये का झारखंड स्टार्टअप प्रमोशन और उद्यमिता (Startup Promotion and Entrepreneurship) का कायाकल्प फंड स्थापित किया जाएगा.”

संकल्प पत्र में गरीबी मिटाना, 70 नए मॉडल स्कूलों की स्थापना, राष्ट्रीय जनजाति संस्थान की स्थापना, आदिवासी समुदाय को समृद्ध बनाना और किसान कल्याण को शामिल किया है. रोजगार के अवसर बढ़ाने पर जोर दिया गया है. पत्र में प्रत्येक जिले में दो मेगा कौशल केंद्र और प्रखंड स्तर पर आईटीआई, कौशल विकास केंद्र की स्थापना करने का वादा किया गया है, जबकि खेलों, प्रशिक्षकों और खेल प्रबंधन के प्रशिक्षण के लिए एक स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी की स्थापना करने की बात कही गई है.

झारखंड विधानसभा चुनाव: भाजपा के सबसे ज्यादा उम्मीदवार है करोड़पति, इन लोगों पर चल रहे हैं आपराधिक मामलें

अंतर्राष्ट्रीय स्तर के पदक विजेताओं को 60 साल की आयु के बाद पेंशन प्रदान करने का भी संकल्प पत्र में जिक्र किया गया है, जबकि प्रदेश में महिलाओं के लिए उपयुक्त सरकारी सेवाओं में 33 प्रतिशत आरक्षण प्रदान करने का वादा भी किया गया है. सहिया और आंगनबाड़ी कार्यकर्ताओं की मांगों की समीक्षा के लिए एक समिति बनाकर तीन महीने के अंदर इस पर कार्रवाई करने का वादा भी किया गया है. इस मौके पर मुख्यमंत्री रघुवर दास ने कहा कि यह एक घोषणा-पत्र मात्र नहीं है, यह संकल्प पत्र है, जिसे हर हाल में पूरा किया जाएगा. इस मौके पर उन्होंने सरकार की उपलब्धियों की भी चर्चा की.

(इनपुट-आईएएनएस)