रांची. झारखंड के नक्सल प्रभावित कोलेबिरा विधानसभा क्षेत्र (Kolebira assembly by-poll) में हुए उपचुनाव का परिणाम आ गया है. यह सीट कांग्रेस उम्मीदवार नमन विक्सेल कोंगाडी ने जीत ली है. कोंगाडी ने अपने निकटतम प्रतिद्वंद्वी भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवार बसंत सोरेंग को 9658 वोटों से हरा दिया है. झारखंड में हुए इस उपचुनाव के परिणाम का आगामी लोकसभा चुनावों में भी असर दिखेगा. क्योंकि प्रदेश में मुख्य विपक्षी दल झारखंड मुक्ति मोर्चा और कांग्रेस के एकजुट होकर लोकसभा चुनाव लड़ने की खबरें आ रही हैं. हालांकि कोलेबिरा उपचुनाव में झामुमो ने कांग्रेस के उम्मीदवार के खिलाफ झारखंड पार्टी के प्रत्याशी को समर्थन दिया था. लेकिन तीन राज्यों में कांग्रेस की सरकार बनने के बाद कांग्रेस को उम्मीद है कि झामुमो लोकसभा चुनाव कांग्रेस पार्टी के साथ मिलकर लड़ेगी. Also Read - जेपी नड्डा का दौरा रद्द, दो दिवसीय दौरे पर पश्चिम बंगाल जाएंगे गृह मंत्री अमित शाह

Also Read - अखिलेश यादव का मायावती पर हमला, अब तो साबित हो गया है कि BSP ही BJP की बी टीम है

झारखंडः स्थाई नौकरी के लिए मंत्री के घर के बाहर रातभर दिया धरना, ‘ठंड’ से गई जान Also Read - Bihar Polls 2020: प्याज की कीमतों को लेकर तेजस्वी का BJP पर हमला- पहले महंगाई 'डायन' थी लेकिन अब...

इससे पहले गुरुवार को हुए उपचुनाव में कोलेबिरा विधानसभा सीट पर 64.08 प्रतिशत मतदान हुआ था. उपचुनाव में भाजपा, मुख्य विपक्षी झारखंड मुक्ति मोर्चा समर्थित झारखंड पार्टी की मेनन एक्का और कांग्रेस के बीच त्रिकोणीय मुकाबला रहा. मुख्य निर्वाचन अधिकारी के प्रवक्ता ने बताया कि मतदान के लिए कुल 270 बूथों पर 64.08 प्रतिशत मतदान दर्ज किया गया. आपको बता दें कि हत्या के एक मामले में झारखंड पार्टी के विधायक एनोस एक्का के सजा पाने के बाद रिक्त हुई कोलेबिरा विधानसभा सीट पर उपचुनाव कराया गया.

कोलेबिरा विधानसभा सीट पर कुल पांच उम्मीदवार चुनाव मैदान में थे. इनमें भाजपा के बसंत सोरेंग, झारखंड पार्टी की मेनन एक्का और कांग्रेस के नमन विक्सेल कोंगाडी प्रमुख हैं. इनके अलावा सेंगेल पार्टी के अनिल कंदुलना एवं निर्दलीय बसंत डुंगडुंग भी चुनाव मैदान में अपना भाग्य आजमा रहे थे. इस उपचुनाव में मुख्य विपक्षी झारखंड मुक्ति मोर्चा ने कांग्रेस उम्मीदवार को समर्थन देने से इनकार कर दिया था और झारखंड पार्टी के अयोग्य ठहराए गए विधायक एनोस एक्का की पत्नी मेनन एक्का की उम्मीदवारी का समर्थन किया था.