रांची: झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी की अगुवाई वाले झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातांत्रिक) का सोमवार को भाजपा में विलय हो गया. केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने यहां एक रैली में बीजेपी में शामिल होने के लिए मरांडी और उनके समर्थकों का स्वागत किया. Also Read - दीया जलाने के दौरान बीजेपी महिला जिला अध्यक्ष ने की थी फायरिंग, FIR दर्ज, अब मांग रहीं माफी

शाह ने मरांडी को आश्वासन दिया कि उन्हें भाजपा में उचित सम्मान और जिम्मेदारी मिलेगी. बता दें कि मरांडी नवंबर 2000 से मार्च 2003 तक झारखंड के मुख्यमंत्री थे. Also Read - Covid-19: गृह मंत्री अमित शाह से लेकर यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ तक, इन राज नेताओं ने जलाए दीये

रांची में केंद्रीय गृह मंत्री शाह ने रैली में कहा, ”मुझे खुशी है कि बाबूलाल मरांडी भाजपा में लौट आए हैं, मैं 2014 में पार्टी अध्यक्ष बनने के बाद से उनकी वापसी के लिए काम कर रहा था.” Also Read - प्रधानमंत्री की दीये जलाने की अपील भाजपा का छुपा एजेंडा: एचडी कुमारस्वामी

पूर्व बीजेपी अध्‍यक्ष अमित शाह ने कहा, मैं 2014 में भाजपा प्रमुख बनने के बाद से बाबूलाल मरांडी को भाजपा में लाने की कोशिश करता रहा हूं. किसी ने सही कहा है कि वह काफी जिद्दी हैं. हम उन्‍हें आसानी से मना नहीं सकते थे. वह अब झारखंड के लोगों की इच्छा के अनुसार बीजेपी में शामिल हो गए हैं.

केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने कहा कि विपक्ष में रहते हुए भाजपा झारखंड सरकार की जन कल्याणकारी योजनाओं का समर्थन करेगी. लेकिन हम नक्सलवाद, आतंकवाद और भ्रष्टाचार को प्रोत्साहित करने के प्रयासों का विरोध करेंगे. हम विधानसभा के भीतर और बाहर इन मुद्दों के खिलाफ लड़ेंगे. अमित शाह ने अयोध्या का मुद्दा भी उठाया और पूर्ववर्ती राज्य जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा वापस लेने का भी जिक्र किया.

पूर्व बीजेपी अध्‍यक्ष ने कहा, प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने अनुच्छेद 370 और 35 (ए) को निरस्त कर यह सुनिश्चित किया कि कश्मीर हमेशा के लिए भारत का अभिन्न अंग बन जाए. चार बार सांसद रहे मरांडी ने 2006 में बीजेपी से अलग हो कर अपनी ”झारखंड विकास मोर्चा (प्रजातांत्रिक)” पार्टी बना ली थी.