jharkhand unlock 5.0: झारखंड में भी कोरोना के मामले कम हो रहे हैं और 30 जून तक प्रदेश में अनलॉक-4.0 की गाइडलाइंस जारी हैं. पूरे देश में जहां कोरोना वायरस की तीसरी लहर की बातें सामने आ रही हैं, वहीं झारखंड के मुख्‍यमंत्री हेमंत सोरेन ने कोरोना के थर्ड वेब से लड़ने की तैयारी भी शुरू कर दी है. सरकार इसे लेकर इस बार पूरी तरह से चौकन्‍नी है. सीएम हेमंत सोरेन ने यह बता भी द‍िया राज्‍य में कोरोना के मामले भले ही कम हो गए हो, लेक‍िन खतरा अभी टला नहीं है. एक जुलाई से प्रदेश में अनलॉक-5 के न‍िर्णय भी सरकार कोरोना की तीसरी लहर की बात को ध्‍यान में रखकर ही लेने वाली है.Also Read - कौन हैं चर्चा में आईं ये आईएएस पूजा सिंघल, घर-परिवार-नौकरी, विवादों से रहा है गहरा नाता....जानिए

तीसरी लहर को देखते हुए हेमंत सरकार करेगी अनलॉक-5 के न‍िर्णय Also Read - Jharkhand Panchayat Chunav 2022: सुप्रीम कोर्ट ने खारिज की याचिका, पंचायत चुनाव में नहीं मिलेगा OBC आरक्षण

झारखंड में कोरोना लॉकडाउन के बाद अनलॉक शुरू होने के साथ ही दो गज की दूरी, मास्‍क है जरूरी को लोग भूलते जा रहे हैं. लोग  कोरोना गाइडलाइंंस का उल्‍लंघन कर रहे हैं. राज्‍य सरकार इनका आकलन कर रही है, जिसकी वजह से अनलॉक-4 में अत‍िर‍िक्‍त छूट की घोषणा नही की गई है. अगर लोग अभी भी नहीं चेते तो झारखंड में Unlock 5.0 में भी अत‍ि‍र‍िक्‍त छूट म‍िले, इसकी संभावना कम ही द‍िख रही है, क्योंकि कोरोना की तीसरी लहर की दस्‍तक हेमंत सरकार के जेहन में है. Also Read - CoronaVirus In India: कब खत्म होगी कोरोना की तीसरी लहर, कब खत्म होगा ओमिक्रॉन, डरें नहीं. सतर्क रहें

सरकार के अनलॉक-5.0 के फैसले पर है सबकी नजर

राज्‍य के लोगों का ध्‍यान अब Unlock 5.0 के फैसले पर ट‍िक गया है. बता दें कि झारखंड में अनलॉक-4 एक जुलाई सुबह छह बजे समाप्‍त होने वाला है और अनलाॅक 5.0 का फैसला 30 जून या उससे पहले ही आने की संभावना है. इसे लेकर सरकार का आकलन जारी है. अनलाॅक-5 का फैसला बहुत हद तक कोरोना गाइडलाइंस के प्रत‍ि लोगों की गंभीरता व सतर्कता पर न‍िर्भर करने वाला है. क्‍या Unlock 5.0 में सरकार देगी छूट या बढ़ा दी जाएगी सख्‍ती या फ‍िर स्‍थ‍ित‍ि रहेगी जस की तस? इसके ल‍िए लोगों को सरकार के अगले फैसले तक का इंतजार करना होगा.

हेमंत सरकार का अनलॉक 3.0 का फैसला बहुत कुछ बताता है

हेमंत सरकार का अनलॉक-3 के गाइडलाइंस को Unlock 4.0 में जारी रखने का फैसला प्रदेशवासियों को बहुत कुछ बताता है. सरकार चाहती तो छूट का दायरा बढ़ा सकती थी, लेकिन सरकार ने ऐसा नहीं किया और गाइडलाइंस की सख्ती जारी रही. हेमंत सरकार ने कहा था कि लोगों को यह व‍िश्‍वास द‍िलाना होगा क‍ि वे सरकार द्वारा म‍िल रही छूट को आजादी नहीं बल्‍कि ज‍िम्‍मेवारी समझेंगे.