रांची. झारखंड के मुख्यमंत्री रघुवर दास ने गुरुवार को कहा कि सरकार ने टाना भगतों का सर्वांगीण विकास करने का निश्चय किया है. उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री आवास योजना के तहत सभी बेघर टाना भगतों को सरकार तीन-तीन कमरे का घर बनाकर देगी. बनहोरा हेहल में ‘टाना भगत अतिथिगृह’ के शिलान्यास के बाद लोगों को संबोधित करते हुए सीएम ने कहा कि टाना भगतों के हित में काम कर सरकार कोई अहसान नहीं कर रही है. यह उनका हक है. सरकार उनका ऋण उतारने का प्रयास कर रही है. रघुवर दास ने कहा कि टाना भगतों ने आजादी की लड़ाई में बढ़-चढ़ कर भाग लिया और अब सरकार की ओर से कर्ज चुकाने की बारी है. उन्होंने कहा कि हमारी सरकार ने निश्चय किया है कि कोई भी आदिवासी, सरकार की किसी योजना से वंचित नहीं रहेगा. इसी क्रम में टाना भगतों के सर्वांगीण विकास के लिए हमारी सरकार काम कर रही है.

अलग प्राधिकार का हुआ गठन
सीएम रघुवर दास ने अपने संबोधन में कहा कि ‘टाना भगतों के विकास के लिए सरकार ने एक अलग प्राधिकार का गठन’ किया है. यह प्राधिकार उनकी समस्याओं के समाधान के लिए काम कर रहा है. सीएम ने कहा कि टाना भगतों के विकास के लिए सरकार गंभीर है. जमीन के निबंधन के दौरान जो जीएसटी की राशि लग रही है, उसे टाना भगत विकास प्राधिकार वहन करेगा. इसी प्रकार झारखंड रक्षा शक्ति विश्वविद्यालय के एक वर्षीय कोर्स में टाना भगत के बच्चों का दाखिला कराया जा रहा है. इसके नामांकन तथा अन्य मद में होने वाले खर्च को राज्य सरकार वहन करेगी. टाना भगतों की मांग पर छात्रावास भी खोला जाएगा. दास ने कहा कि अब तक किसी ने भी टाना भगतों, आदिवासियों, गरीबों की सुध नही ली. आजादी के बाद पहली बार हमारी सरकार टाना भगतों, आदिवासियों, गरीबों के लिए समर्पित होकर कार्य कर रही है.

आदिवासी के नाम पर राजनीति नहीं
सीएम ने स्वतंत्रता संग्राम में टाना भगतों के योगदान को भी याद किया. उन्होंने कहा, ‘स्वतंत्रता आंदोलन के लिए सिर्फ किसी एक परिवार को ही श्रेय देना हजारों गुमनाम स्वतंत्रता सेनानियों के प्रति अन्याय है. हमारे गरीब पूर्वजों ने भी देश की आजादी के लिए खून बहाया है. सभी के प्रयासों से ही आजादी मिली है. इसी को ध्यान में रखते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने केंद्र के मंत्रियों को स्वतंत्रता सेनानियों के गांव में जाकर कार्यक्रम करने का निर्देश दिया था. इसी कड़ी में गृह मंत्री राजनाथ सिंह ने भगवान बिरसा मुंडा के जन्म स्थल उलिहातु जाकर उन्हें श्रद्धांजलि अर्पित की थी.’ मुख्यमंत्री ने कहा, ‘हमारी सरकार गरीब, आदिवासी, किसान के नाम पर राजनीति नहीं करती है. हम उनका हक दिलाने के लिए प्रतिबद्ध हैं. टाना भगतों के लिए हो रहे विकास कार्यों में किसी प्रकार की कोताही सरकार बर्दाश्त नहीं करेगी.’ कार्यक्रम में पूर्व विधायक गंगा टाना भगत ने कहा कि वर्तमान सरकार ने जितना काम टाना भगतों के लिए किया है उतना किसी और सरकार ने नहीं किया. इस सरकार में ही टाना भगत विकास प्राधिकार का गठन किया गया है.

(इनपुट – एजेंसी)