रांची: झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने घोषणा की है कि राज्य में बाहर से बड़ी संख्या में प्रवासी श्रमिकों एवं छात्रों के आगमन को देखते हुए एहतियात के तौर पर राज्य में अगले दो हफ्तों तक पहले की ही तरह लॉकडाउन लागू रहेगा और किसी भी जोन में कोई नई दुकानें या प्रतिष्ठान नहीं खोले जाएंगे. Also Read - Coronavirus in Maharashtra Update: 50 हजार के पार पहुंची संक्रमितों की संख्या, 1600 से अधिक की मौत

मुख्यमंत्री ने सोमवार को कहा कि केंद्र सरकार द्वारा लॉकडाउन में छूट को लेकर एक मई को दिए गए नए निर्देश फिलहाल झारखंड में लागू नहीं होंगे. उन्होंने कहा कि ऐसा इसलिए है क्योंकि श्रमिक भाई-बहन, छात्र-छात्राएं एवं अन्य लोग विभिन्न राज्यों से अपने घर लौट रहे हैं. राज्यवासियों के स्वास्थ्य की सुरक्षा के लिए यह जरूरी है. Also Read - बिहार सरकार का ऐलान- कोविड-19 से जान गंवाने वाले 13 लोगों को मिलेंगे चार-चार लाख रुपए

इससे पूर्व रविवार को राज्य के मुख्य सचिव सुखदेव सिंह की अध्यक्षता में प्रमुख अधिकारियों की प्रशासकीय समिति की बैठक में इस संबंध में फैसला लिया गया. Also Read - उद्धव सरकार के दूसरे मंत्री को हुआ कोरोना, महाराष्ट्र के पूर्व CM अशोक चव्हाण पाए गए पॉजिटिव

बाद में जारी अधिसूचना में बताया गया कि राज्य में किसी भी जोन – रेड, ऑरेंज एवं ग्रीन में किसी भी नई गतिविधि को अभी अनुमति नहीं दी जाएगी. इसमें बताया गया कि पहले की तरह यहां लॉकडाउन जारी रहेगा.

मुख्य सचिव की अध्यक्षता वाली समिति ने तय किया कि पहले की ही तरह राज्य में सिर्फ अनाज, आवश्यक वस्तुओं, फल, सब्जी, दवाओं की दुकानें ही खुली रहेंगी. इसके अलावा किसी अन्य गतिविधि को अनुमति नहीं होगी. यह तय किया गया कि राज्य में बड़ी कड़ाई से लॉकडाउन को लागू किया जाएगा.

केंद्र सरकार द्वारा प्रवासियों को अपने क्षेत्रों में जाने की छूट दिए जाने के बाद से देश के अन्य हिस्सों में फंसे राज्य के प्रवासी श्रमिक, छात्र और पर्यटक झारखंड पहुंच रहे हैं. इसके लिए देश के अनेक भागों से विशेष ट्रेनें भी चलाई गई हैं.

बता दें कि केंद्र सरकार ने पहली मई को जारी नई अधिसूचना में कोरोना संक्रमण की स्थिति के अनुरूप देश केा रेड, ऑरेंज और ग्रीन जोन में बांटकर उनमें आवश्यक तथा व्यावसायिक गतिविधियों को सीमित छूट दी थी, जो आज से पूरे देश में लागू हो गई हैं.